Chocolate Making Business Idea in Hindi | चाकलेट बनाने का व्यवसाय कैसे शुरू करें ?

chocolate making business

chocolate making business चाकलेट एक ऐसा खाद्य पदार्थ है जिसका नाम पहले कम सुनने को मिलता था महंगा होने के कारण इसे बड़े घरों के बच्चे ही खा पाते थे लेकिन समय परिवर्तन के साथ-साथ चाकलेट बनाने वाली बहुत सी कंपनिया मार्केट में आ गयी जिससे कम्पटीशन के चलते इनके प्राइस में उतार चढ़ाव हुआ और आज चाकलेट हर घर के छोटे बच्चों की पहली पसंद बन चुका है चाकलेट की मार्केट में जबरदस्त मांग है।  

इसके दिन प्रतिदिन बढ़ते हुए मांग को देखते हुए यदि आप भी इस बिज़नस को स्टार्ट करने के लिए इच्छुक हैं तो आज के पोस्ट में मैं आप लोगों के लिए ही ‘chocolate making business कैसे स्टार्ट करें’ की पूरी जानकारी लाया हूँ जिसे आप पढ़कर अपना बिज़नस आसानी से शुरू कर सकते हो।  

इसे भी पढ़ें- नमकीन बिस्कुट बनाने का व्यवसाय कैसे शुरू करें ?

चाकलेट क्या है ?

चाकलेट एक बहुत ही स्वादिष्ट एवं बच्चों का प्रिय खाद्य पदार्थ है। आपने डेरीमिल्क, कैडबरी, आईटीसी आदि का नाम तो जरूर सुना होगा, यें सब चाकलेट बनाने वाली फेमस कंपनिया हैं। डेरी मिल्क का मशहूर विज्ञापन ‘चलिए कुछ मीठा हो जाये’ तो आपने जरूर देखा या सुना होगा यह न सिर्फ बच्चों की पहली पसंद है बल्कि बड़ों को भी खूब पसंद आता है।   

यह किससे बनता है ?

चाकलेट मुख्य रूप से कोको के बीज से तैयार होता है कोको के बीज का स्वाद बहुत कड़वा होता है परन्तु इसको किण्वन प्रक्रिया (fermentation process) द्वारा तथा इसमें बहुत सारे  ingredients मिलाकर स्वादिष्ट बनाया जाता है। व्यवसायिक स्तर पर चाकलेट बनाने में निम्नलिखित रॉ मैटेरियल्स मिलाये जाते हैं-

  • चाकलेट कंपाउंड- यह एक प्रकार से कोको, वसा और सुगर का मिक्सचर होता है जो आपको  मार्केट में बना बनाया उपलब्ध हो जाता है।
  • फ्रूट्स फ्लेवर- चाकलेट्स को स्वादिष्ट बनाने के लिए इसमें विभिन्न तरह के फ्रूट्स फ्लेवर  मिलाये जाते हैं। 
  • कलर- चाकलेट को रंगीन बनाने के लिए इसमें विभिन्न रंग मिलाये जाते हैं। 
  • चोको चिप्स- चॉकलेट बनाने के लिए चोको चिप्स की आवश्यकता होती है जिसे आप ऑनलाइन भी खरीद सकते हैं।
  • रैपिंग पेपर- इसमें तैयार चाकलेट्स को पैकिंग के समय लपेटा जाता है। 
  • एसेंस- यह चाकलेट में खुशबू लाने के लिए मिलाया जाता है। 
  • स्पैचुला – यह एक लम्बी धार वाला बर्तन होता है।
  • नट्स – चॉकलेट को स्वादिष्ट बनाने के लिए नट्स का इस्तेमाल किया जाता है।
  • चॉकलेट मोल्ड – चॉकलेट को विभिन्न आकार देने के लिए चॉकलेट मोल्ड का इस्तेमाल किया जाता है।
  • पैकिंग करने के लिए आवश्यक सामग्री
  • ट्रे – जिसमे चॉकलेट रखा जाता है।
  • ट्रान्सफर शीट – चॉकलेट को डेकोरेट करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।    

आने वाले दिनों में डिमांड रहेगी या नहीं

चाकलेट की पहुँच अब सिर्फ बड़े घरों तक ही सीमित न होकर मध्यम एवं निम्नवर्गीय परिवारों के घरों तक अपनी पहुँच बना चुका है। अब बच्चा-बच्चा चाकलेट से परिचित हो चुका है। शाम को जब मम्मी पापा अपने ड्यूटी या काम से घर आते हैं तो बच्चा उनकी जेब में चाकलेट तलाशता है यहाँ तक की बच्चों के बर्थडे पार्टी पर सभी मेहमान गिफ्ट के तौर पर चाकलेट ले जाना ही पसंद करते हैं क्योंकि बच्चों को मिठाई से ज्यादा चाकलेट पसंद आते हैं। इस प्रकार से आने वाले दिनों में इसकी मांग में बेतहाशा वृद्धि होने वाली है।  

chocolate making business
chocolate making business

कैसे शुरू करें

चूंकि chocolate making business आप बड़े स्तर पर शुरू करना चाहते हैं इसलिए मेरी यही सलाह है की एक बार आप चाकलेट बनाने वाली किसी कंपनी के वर्कशॉप पर विजिट अवश्य कर लें जांच परख लें और इस बिज़नस को स्टार्ट करने में लगने वाले सभी मशीनरी एवं कच्चे माल  को कहाँ से लायेंगे, के बारे में जानकारी कर लें एवं लगने वाले पूँजी का आंकलन कर लें तभी शुरुआत करें।  

इसे भी पढ़ें- लोहे के दरवाजे खिड़कियाँ रेलिंग बनाने का बिज़नस कैसे शुरू करें ?

प्लांट कहाँ लगाए ?

ज्यादातर बिज़नस को स्टार्ट करने के लिए हमेशा यही सुझाव दिया जाता है की अपना बिज़नस मार्केट में शुरू कीजिये लेकिन कोई जरूरी नहीं है की आप मार्केट में ही शुरू करें।यदि आपके पास मार्केट में अपनी खुद की जगह उपलब्ध नहीं है तो किराये पर कमरा लेंगे तो आपकी लागत ही बढ़ेगी इसलिए आप अपने घर से ही यदि प्रयाप्त जगह उपलब्ध है तो इसकी शुरुआत कर सकते हैं। बशर्ते आपके घर पर विद्युत् कनेक्शन उपलब्ध हो व घर तक यातायात आवागमन की सुविधा हो। 

लाइसेंस

चाकलेट एक खाद्य पदार्थ है इसलिए इसका FSSAI से लाइसेंस लेना अनिवार्य है इससे पहले आप को जीएसटी रजिस्ट्रेशन कराना होगा जो किसी भी बिज़नस के सफल संचालन के लिए आवश्यक है। इसके बाद फ़ूड लाइसेंस के लिए आवेदन करें आवेदन के पश्चात विभागीय अधिकारी आपके वर्कशॉप पर आकर आपके प्रोडक्ट की क्वालिटी चेक करेंगे और संतुष्ट होने के बाद ही आपको फैक्ट्री लगाने का सर्टिफिकेट मिलेगा। इसके बाद आप ट्रेडिंग लाइसेंस एवं ब्रांड ट्रेडमार्क रजिस्ट्रेशन के लिए अप्लाई कर सकते हैं।  

मशीनरी एवं उपकरण (chocolate making machine)

chocolate making business स्टार्ट करने के लिए आपके पास निम्नलिखित मशीनों का होना आवश्यक है-

  • मेल्टर मशीन- इस मशीन की सहायता से कोको बीज को गर्म करके पिघलाया जाता है। 
  • मिक्सिंग मशीन- इस मशीन की सहायता से सभी रॉ मैटेरियल्स को अच्छे से मिक्स किया  जाता है। 
  • रेफ्रीजिरेटर- इसमें कोको बटर को रखा जाता है ताकि यह खराब न हो। 
  • टेम्परेचर कंट्रोलर- इसका काम तापमान नियंत्रण करना होता है इसका भी उपयोग चाकलेट प्रोसेसिंग में किया जाता है। 
  • सिलिकॉन मोल्ड्स- ये सिलिकान के बने सांचे होते है जिनमे चाकलेट को ढाला जाता है। 

आप इन मशीनों को खरीदने से पहले इंडियामार्ट की वेबसाइट www.indiamart.com पर इनका रेट देख सकते हैं और ऑनलाइन खरीद भी सकते हैं। 

पूँजी निवेश कितना होगा ? (chocolate making machine price)

इस बिज़नस को दो तरह से स्टार्ट किया जा सकता है एक कोको बीज को स्वयं मंगाकर उनसे  चाकलेट तैयार करना इसके लिए आपको ज्यादा पूँजी लगाना होगा क्योंकि इसमें आपको  क्लीनिंग, रोस्टिंग, विनोविंग आदि कार्यों के लिए एक्स्ट्रा मशीनें खरीदनी पड़ेंगी जो की बहुत costly पड़ेगा। जबकि दूसरे तरीके से अपना बिज़नस शुरू करने में जिसमे आप बना बनाया कोको कंपाउंड मार्केट से खरीदकर आसानी से चाकलेट बना सकते हैं जिसके लिए ज्यादा मशीनरी की जरूरत भी नहीं होगी। Beginners को यही सलाह दी जाती है की वह इसी तरीके से अपना बिज़नस  स्टार्ट करें और कमाई स्टार्ट हो जाने के बाद आप बड़ा plant लगा सकते हैं। 

इस उद्योग को लगाने में ज्यादा पूँजी की आवश्यकता होती है यदि आपके पास पर्याप्त पूँजी नहीं है और आप इसी बिज़नस को करना चाहते हैं तो आप भारत सरकार के मुद्रा लोन कार्यक्रम के तहत ऋण ले सकते हैं और अपना बिज़नस स्टार्ट कर सकते हैं। 

इसे भी पढ़ें- मुद्रा लोन योजना से ऋण कैसे प्राप्त करें ?

कैसे बनता है ? (chocolate making process)

chocolate बनाने का बिज़नस शुरू करने से पहले आपको ट्रेनिंग (chocolate making course) करने/लेने की जरुरत होती है। इसके लिए आप किसी फैक्ट्री में जाकर ट्रेनिंग ले सकते हैं अथवा आप youtube पर भी चॉकलेट बनाना सीख सकते हैं chocolate making video देख सकते हैं।

chocolate making business
chocolate making business

पैकेजिंग 

पूरी तरह से तैयार चाकलेट को अच्छे क्वालिटी के रैपिंग पेपर में पैक किया जाता है। पैकेट बहुत अच्छा एवं आकर्षक होना चाहिए क्योंकि बिक्री में अच्छी पैकिंग का भी अहम् रोल होता है। आज कल इन पैकेट्स के ऊपर यदि कार्टून जैसे मोटू पतलू, वीर द रोबो बॉय, टॉम एंड जेरी आदि छपा हो तो बच्चे उन्हें ज्यादा पसंद करते हैं इसलिए इसका ध्यान रखा जाना चाहिए। पैकेट के ऊपर सारी आवश्यक जानकारियां दी जाती हैं जैसे कि मैन्युफैक्चरिंग डेट, एक्सपायरी डेट, प्राइस आदि। अब इन छोटे-छोटे पैकेट्स को बड़े-बड़े गत्तों में पैक करके थोक विक्रेताओं के पास भेज दिया जाता है जहाँ से रिटेल व्यापारी ले जाकर इसे बेंचते हैं।

बिक्री कैसे बढ़ाएं ? 

किसी भी बिज़नेस की सफलता इस बात पर निर्भर करती है की उसके प्रोडक्ट की बिक्री कितनी हो रही है जितनी अधिक बिक्री होगी उतना ही अधिक मुनाफा होगा इसलिए अपने प्रोडक्ट की अधिकतम बिक्री हेतु आपको इस सेक्टर पर सबसे ज्यादा ध्यान देने की आवश्यकता है। मेरा अपना मानना है यदि आप अपने प्रोडक्ट की क्वालिटी सही रखते हो और शुरुआत में अन्य कंपनियों की तुलना में अपने प्रोडक्ट की प्राइस कम रखते हैं तो आपका प्रोडक्ट अवश्य बिकेगा इसकी 100 % गारंटी है chocolate making business की बिक्री बढ़ाने के कुछ टिप्स निम्न हैं- 

  • बाज़ार में अपने प्रोडक्ट के पोस्टर बैनर जरूर लगवाएं।
  • होलसेलर जो आपके प्रोडक्ट को बल्क क्वांटिटी में होलसेल रेट पर खरीदता है, को बीच-बीच में  कोई गिफ्ट जरूर देना चाहिए।
  • टीवी, समाचार पत्र व पत्रिकओं में विज्ञापन देना चाहिए।
  • अपने आस-पास या राज्य क्षेत्र में होने वाले किसी भी प्रकार के आपदा के समय पीड़ितों को यथासंभव चैरिटी डोनेट करना चाहिए व शैक्षणिक संस्थाओ में सहयोग करना चाहिए इन सब कार्यों से आपके कंपनी पर सकारात्मक असर पड़ता है।
  • अपने कर्मचारियों से अच्छा व्यवहार रखें एवं उन्हें समय पर वेतन भुगतान अवश्य कर दें।
  • ईमेल, बेबसाईट, फोन नंबर और सोशल मीडिया के जरिये ग्राहकों से संपर्क बनायें।
  • कस्टमर बनाने के लिए आप बीच-बीच में कुछ उपहार देने की योजना भी बना सकते हैं जिससे आपकी बिक्री अधिक होगी।

अवश्य पढ़ें-शीर्ष दस सफल व्यवसायियों की प्रेरणादायक कहानी 

प्रॉफिट 

इस बिज़नस में प्रॉफिट बहुत ज्यादा है, एक बार आपका प्रोडक्ट मार्केट में अपना सिक्का जमा ले बाद में आपको मुनाफा ही मुनाफा है, जितना ज्यादा कोई प्रोडक्ट फेमस हो जाता है उस कंपनी को उतना ही अधिक प्रॉफिट होता है इसलिए आप शुरुआत में अपने प्रॉफिट पर ज्यादा ध्यान न देकर अपने प्रोडक्ट की क्वालिटी और पॉपुलैरिटी पर ध्यान दीजिये, प्रॉफिट अपने आप बढ़ जायेगी। यदि आप इसे लॉन्ग टर्म बिज़नस बनाना चाहते हैं तो ज्यादा लाभ के चक्कर में आपका नुक्सान ही होगा। वैसे इस बिज़नस में प्रॉफिट मार्जिन बहुत ज्यादा है क्योंकि लागत से दो गुना मूल्य पर चाकलेट आसानी से बिक जाता है।  

निष्कर्ष

दोस्तों मुझे उम्मीद एवं पूर्ण विश्वास है कि आप लोगों को यह पोस्ट ‘chocolate making business in hindi कैसे स्टार्ट करें’ बहुत अच्छा एवं ज्ञानवर्धक लगा होगा फिर भी आप इस व्यवसाय को शुरू करने से पहले पूरी जानकारी अवश्य कहीं से प्राप्त कर लें तभी इस व्यवसाय को शुरू करें। यदि आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो प्लीज मुझे कमेन्ट करके बताइये और अपने दोस्तों को  ज्यादा से ज्यादा शेयर कीजिये आपके कमेन्ट से हमें और अधिक प्रेरणा मिलती है जिससे हम  आपके लिए और अधिक नए नए बिज़नेस आइडियाज ला सकें धन्यवाद।

इसे भी पढ़ें- कम लागत के 25 नए बिज़नस आइडियाज 

 

About Ved Prakash Yadav


Leave a Comment

Your email address will not be published.