Dal Mill Manufacturing Business in Hindi | दाल मिल का व्यवसाय कैसे शुरू करें ?

Dal Mill Manufacturing Business

Dal Mill Manufacturing Business एक ऐसा व्यापार है जो सालों साल चलता है। इसका मुख्य कारण ये है की भारत के अधिकतर लोग भोजन में दाल खाना अधिक पसंद करते हैं, क्योंकि दाल से प्रोटीन की भरपूर मात्रा प्राप्त की जा सकती है। दाल गरीब से लेकर अमीर आदमी तक खाते हैं कोई अरहर की दाल खाना पसंद करता है तो कोई मटर, मूंग, मसूर, चने की दाल खाना पसंद करता है।

इसके अलावा विभिन्न प्रकार के दाल से बेसन भी तैयार किया जाता है, जिसकी डिमांड मार्किट में बहुत रहती है। बेसन से कई प्रकार के व्यंजन तैयार किये जाते हैं और होटल, restaurant आदि में बहुत मांग होती है। इन्ही सब चीजों को देखते हुए यदि आप Dal Mill Plant की स्थापना करते हैं तो इस कारोबार से आप लाखों रूपये महीना कमा सकते हैं।

आज के इस आर्टिकल में मैं आपको Dal Mill Manufacturing Business की सम्पूर्ण जानकारी देने वाला हूँ, जिससे आप अपने ही एरिया में रहकर Dal Mill Making Business की शुरुआत कर सकते हैं। तो आइये जानते हैं Dal Mill Manufacturing Business in Hindi के बारे में पूरी डिटेल से।

Read it Also- Flour Mill का बिज़नस कैसे शुरू करें?

Dal Mill Manufacturing Business क्या है ?

एक ऐसा प्लांट जिसमे विभिन्न प्रकार की मशीनें होती हैं, जिसमे विभिन्न प्रकार के दाल के ऊपर का छिलका उतारा जाता है तथा दाल में से कंकड़, पत्थर, धूल – मिटटी को निकाल कर अलग किया जाता है, जिससे दाल खाने योग्य हो जाता है इसी को Dal Mill Manufacturing Business कहा जाता है।

रॉ मटेरियल (Raw Material for Dal Mill Processing)

दाल बनाने के लिए विभिन्न प्रकार की खड़ी दाल जैसे अरहर, मसूर, चना, मटर, उड़द आदि का प्रयोग किया जाता है।

Dal Mill Plant के लिए आवश्यक मशीनें

Dal Mill Manufacturing Business के लिए विभिन्न प्रकार के मशीनों की आवश्यकता होगी –

  1. क्लीनर मशीन
  2. पिलर मशीन
  3. ड्रायेर मशीन
  4. पोलिशर मशीन
  5. बैग सीलिंग मशीन
  6. भार मापने की मशीन

इसके अलावा दाल तैयार करने के लिए तीन तरह की मशीन का उपयोग किया जाता है।

  1. Manual Machine
  2. Semi Automatic Machine
  3. Fully Automatic Machine

इनमे से आप किसी भी मशीन को खरीद कर अपना कारोबार शुरू कर सकते हैं।

मशीन और रॉ मटेरियल कहाँ से खरीदें

दाल मिल प्लांट के लिए विभिन्न प्रकार की मशीनों को आप indiamart.com की वेबसाइट से खरीद सकते हैं इसके अलावा दाल बनाने के लिए रॉ मटेरियल किसानों से या अपने नजदीकी मंडी से खरीद सकते हैं।

अवश्य पढ़ें – बेसन manufacturing बिज़नस कैसे शुरू करें?

आने वाला कुल खर्च

यदि आप Semi Automatic Machine से शुरूआत करते हैं तो मशीन की कीमत लगभग 4 लाख आएगी, और यदि आप fully automatic machine से शुरुआत करते हैं तो लगभग मशीन की कीमत 12 लाख रूपये आएगी। अगर आप सेमी आटोमेटिक दाल मिल लगाते हैं तो कुल 7 से 8 लाख में ये बिज़नस शुरू हो जायेगा, लेकिन यदि आप fully आटोमेटिक दाल मिल से शुरुआत करना चाहते हैं तो लगभग 18 से 20 लाख रूपये की आवश्यकता होगी, जिसमे रॉ मटेरियल , जमीन का किराया, बिजली, पानी, आदि सम्मिलित है।

आवश्यक जगह (Area for Dal Mill Manufacturing Business)

अगर आप सेमी आटोमेटिक मशीन लगाकर दाल manufacturing का बिज़नस शुरू करते हैं तो लगभग 800 से 1000 स्कवायर फीट जगह की आवश्यकता होगी लेकिन अगर आप fully automatic मशीन से दाल मिल की शुरू आत करते हैं तो लगभग 2000 से 2500 स्कवायर फीट जगह की आवश्यकता होगी। साथ ही आप इस बिजनेस की शुरुआत गाँव व शहर दोनों जगह कर सकते हैं।

बस आपको ध्यान में ये रखना है की आप जिस स्थान पर Dal Mill Manufacturing Business शुरु करने जा रहे हैं वहां पर बिजली, पानी, सड़क व आवागमन की सुविधा उपलब्ध हो जिससे माल को आसानी से सप्लाई किया जा सके।

दाल बनाने की प्रक्रिया (Dal making Process)

अगर आटोमेटिक दाल मिल की बात करें तो सबसे पहले खड़े दाल को भिगोया जाता है। इसके बाद fully आटोमेटिक मशीन के होपर में रॉ दाल को डाल दिया जाता है और उसी मशीन में डस्ट, कंकड़, को निकालने की तथा छिलके को उतारने व सुखाने की प्रक्रिया मशीन आटोमेटिक तरीके से करती है। इसके बाद दाल को दो भागों में अलग कर देती है और पोलिसर मशीन से दाल को पोलिश करके चमकदार बना देती है। इसके बाद दाल को भार मापने की मशीन से तौल कर बैग में भरकर सीलिंग मशीन से सील कर दिया जाता है।

Read it Also- राइस मिल का बिजनेस कैसे शुरू करें?

दाल की पैकेजिंग (Dal Packaging)

दोस्तों आज के समय में लगभग हर चीज पैकिंग में बिकती है इसलिए आप भी दाल की पैकिंग करके मार्किट में सेल कर सकते हैं। अपने कस्टमर के requirement के अनुसार 500 ग्राम, 1 kg, 2 kg, 5 kg, 10 kg, 25 kg, 50 kg की पैकिंग कर सकते हैं पैकिंग करने से पहले थैलों पर अपने ब्रांड का नाम अवश्य छपवायें ताकि आपका प्रचार – प्रसार भी हो सके।

दाल के प्रकार (Types of Dal)

Dal Mill Manufacturing Business में विभिन्न प्रकार के दाल तैयार कर सकते हैं-

उड़द दाल- उड़द दाल का उपयोग इडली, डोसा व पापड़ बनाने के लिए किया जाता है। इसमें फास्फोरिक एसिड की मात्रा पाई जाती है जो हमारे शरीर के लिए बहुत ही लाभदायक होता है।

चना दाल- चना दाल से बेसन बनाया जाता है साथ ही अंकुरित चना खाने से स्कर्वी रोग में बहुत अधिक फायदा होता है।

मूंग दाल- मूंग दाल के छिलके को मवेशी लोग उठा ले जाते हैं साथ ही मूंग दाल से नमकीन व पराठे भी बनाये जाते हैं। यह पाचन में बहुत ही हल्का होता है।

मटर दाल- मटर दाल का इस्तेमाल भी दाल खाने के लिए किया जाता है इसके अलावा लोग हरा मटर भी खाना पसंद करते हैं। साथ ही पके हुए मटर को उबाल कर जो मटर तैयार किया जाता है उसमे पकौड़ी, समोसा मिलाकर पकौड़ी मटर, समोसा मटर आदि खाया जाता है।

तूर/ अरहर दाल- अरहर दाल के ऊपर का छिलका उतारकर पशुओं को खिलाया जाता है, जबकि अरहर के दाल को लोग खाना बहुत पसंद करते हैं इसमें प्रोटीन की मात्रा भरपूर होती है।

दाल मिल बिजनेस में scope

जैसा की हम सभी को पता है की भारत में सभी लोग दाल खाते हैं चाहे वो गरीब वर्ग का आदमी हो या अमीर वर्ग का। साथ ही दाल से बेसन भी तैयार किया जाता है जो मार्किट में बहुत अधिक मात्रा में बिकता है, जिससे लोग अलग – अलग तरह के recipe तैयार करते हैं। इन्ही सब चीजों को देखते हुए हम यह कह सकते हैं की Dal Manufacturing एक ऐसा बिजनेस है जो सालों साल चलेगा इसलिए दाल मिल का उद्योग अगर आप स्थापित करते हैं तो इसमें आपको मार्किट पोटेंशियल बहुत देखने को मिलेगा।

इसे भी पढ़ें- हार्डवेयर की दुकान कैसे खोलें?

दाल की मार्केटिंग

दोस्तों किसी भी वस्तु का ब्रांड धीरे-धीरे बनता है लेकिन इसके लिए आपको विशेष ध्यान रखना होगा कि आपका माल शुद्ध व स्वच्छ होना चाहिए। Starting में आप अपने शहर के डीलर या डिस्ट्रीब्यूटर से कांटेक्ट कर सकते हैं या जो किराना शॉप, ग्रोसरी शॉप की दुकाने हैं उनसे संपर्क कर सकते हैं, जब आपका माल अच्छा होगा तो लोग खुद आपके माल को बल्क क्वांटिटी में खरीदना शुरू कर देंगे।

इसके अलावा यदि आप अधिक प्रोडक्शन करते हैं तो अधिक बिक्री के लिए आप जगह-जगह पर पोस्टर व बैनर लगवा सकते हैं। Advertisement करवा सकते हैं जिससे ज्यादा से ज्यादा ग्राहक को आपके ब्रांड के बारे में पता चल सकेगा।

दाल बिजनेस से होने वाला मुनाफा (Profit from Dal Mill Business)

यदि आप Dal Mill Manufacturing Business सेमी आटोमेटिक मशीन से शुरू करते हैं। तो आप लगभग हर महीने 40 से 50 हजार की कमाई कर सकते हैं। ये आपके मार्केटिंग सेल्स पर depend करता है की आप कितना ज्यादा माल सेल कर रहे हैं। जितना ज्यादा माल बिकेगा उतना ज्यादा प्रॉफिट मिलेगा।

आवश्यक लाइसेंस (Required License)

  1. Business Registration
  2. Udyog Aadhar Registration
  3. FSSAI Registration
  4. GST Registration
  5. Trademark Registration

निष्कर्ष (Conclusion)

दोस्तों बिजनेस तो कोई भी शुरू किया जा सकता है परन्तु बिजनेस को शुरू करने से पहले उस बिजनेस की अच्छी तरह से जानकारी ले लेनी बहुत ही आवश्यक है, क्योंकि जानकारी के अभाव लोगों से बहुत बड़ी चूक हो जाती है जिससे बाद में उनको नुकसान ही उठाना पड़ता है। ऐसे में सबसे पहले आप हो सके तो ट्रेडिंग का काम स्टार्ट करें जिसमे आपका लागत भी कम आएगा और लाइसेंस भी नहीं लेना पड़ेगा ऐसा करने से आपके कस्टमर बन जायेंगे और जब आपको लगे की अब मुझे Dal Mill Manufacturing Business शुरू करना चाहिए तो ही शुरू करें।

उम्मीद करता हूँ Dal Mill Manufacturing Business का ये आर्टिकल आपके लिए लाभकारी साबित हुआ होगा अगर आप ऐसे ही आर्टिकल पढना चाहते हैं तो हमें कमेंट जरूर करे धन्यवाद।

अवश्य पढ़ें- बिजनेस कैसे शुरू करें ? पूरी जानकारी

About Amit Kumar

Hello Friends! मेरा नाम अमित कुमार है, मैं एक फुल टाइम Youtuber और Blogger हूँ. मेरा मकसद उन लोगों को आगे बढाने का है जो लोग बिज़नस करके आगे बढ़ना चाहते हैं लेकिन कुछ लोगों को सही जानकारी न होने के कारण आगे नहीं बढ़ पाते हैं. इस ब्लॉग पर आपको नई-नई बिज़नस Read More


Leave a Comment

Your email address will not be published.