Detergent Powder Making Business in Hindi | डिटर्जेंट पाउडर का व्यवसाय

detergent powder making business in hindi

डिटर्जेंट पाउडर (Detergent Powder Making Business in Hindi) एक ऐसा व्यवसाय है जो कभी भी बंद नहीं होगा। कपड़े को साफ करने के लिए Washing powder बहुत ही आवश्यक वस्तु है। यह दैनिक जीवन में प्रयुक्त होने वाला ऐसा प्रोडक्ट है जिसकी जरूरत हर घर में हर व्यक्ति को होती है। इसका उपयोग हम सभी लोग साधारण तौर पर कपड़े धोने के लिए करते हैं। बाज़ार में विभिन्न ब्रांड के वाशिंग पाउडर उपलब्ध हैं जिसकी जितनी अच्छी क्वालिटी है उतनी अधिक बिक्री। यदि आप भी कोई बिज़नस स्टार्ट करने के इच्छुक हैं तो यह बिज़नस आपके लिए मुनाफे का बिज़नस साबित हो सकता है। 

आज के इस पोस्ट में मैं आप लोगों को Detergent Powder Making Business in Hindi कैसे स्टार्ट करें के बारे में पूरी जानकारी दूंगा ताकि आप भी अपना बिज़नस आसानी से शुरू कर सको।   

वाशिंग पाउडर का फ्यूचर मार्केट (Detergent business plan)

हमारे दैनिक जीवन में प्रयोग की जाने वाली कुछ ऐसी आवश्यक वस्तुएं हैं जिनकी मार्केट में डिमांड कभी कम हो ही नहीं सकती हैं। इन सभी वस्तुओं की दिन भर में किसी न किसी समय आपको आवश्यकता पड़ ही जाती है। इन्ही वस्तुओं में से एक डिटर्जेंट पाउडर (Detergent Powder Making Business in Hindi) भी है जिसका हम अपने दैनिक जीवन में उपयोग प्रतिदिन कपड़े साफ़ करने हेतु करते हैं। हर व्यक्ति साफ़ सुथरा रहना चाहता है जिसके लिए साफ़ सुथरे कपड़े पहनने की आवश्यकता पड़ती है और कपड़ो को साफ़ करने के लिए वाशिंग पाउडर की आवश्यकता होती है जिसे हम बाज़ार से खरीदते हैं। अतः वाशिंग पाउडर हमेशा बिकने वाला प्रोडक्ट है और जब तक पृथ्वी पर मानव सभ्यता रहेगी तब तक वाशिंग पाउडर बिकता रहेगा अतः वाशिंग पाउडर या डिटर्जेंट का फ्यूचर मार्केट बहुत अच्छा है।      

वाशिंग पाउडर किससे बनता है ? (Detergent powder making raw material)

औद्योगिक स्तर पर washing powder बनाने के लिए निम्नलिखित रॉ मैटेरियल्स का इस्तेमाल किया जाता है-

  • एसिड स्लरी 
  • ग्लौबर साल्ट 
  • डी कोल
  • ए ओ एस (Alpha Olefin Sulphonate)
  • सीबीएस (CBS-X) 
  • कलर साल्ट 
  • सोडा ऐश
  • डोलोमाइट 
  • ट्राईसोडियम फास्फेट 
  • कार्बोक्सी मिथाइल परफ्यूम 
  • व्हाइटनर 
  • नींबू या संतरे का रस 
  • टीनोपाल 

आप इन सभी रॉ मैटेरियल्स को  www.indiamart.com पर घर बैठे ऑनलाइन भी खरीद सकते हैं।

 

फैक्ट्री के लिए कितनी जगह चाहिए ? (Space for detergent powder manufacturing business)

वाशिंग पाउडर की फैक्ट्री लगाने के लिए शुरुआत में आपके पास कम से कम 400 से 500 वर्ग फुट की जगह प्रयाप्त है। जिसमे सभी मशीनरी स्थापित हो सके, तथा एक ऑफिस एवं गोदाम बन सके एवं सबसे जरूरी चीज यह है की फैक्ट्री ऐसी जगह पर होनी चाहिए जहाँ पर यातायात आवागमन की उचित सुविधा हो जिससे कच्चा माल एवं तैयार प्रोडक्ट्स आसानी से लाया और भेजा जा सके।  

आवश्यक मशीनरी एवं अन्य सामान (Detergent Powder Making Machine)

washing powder बनाने हेतु सिर्फ तीन मशीनों का ही इस्तेमाल किया जाता है- 

  • मिक्सर मशीन- इस मशीन का उपयोग सभी रॉ मैटेरियल्स को अच्छे से मिक्स करने के लिए किया जाता है।  
  • स्क्रेमिंग मशीन- यह मशीन रॉ मैटेरियल्स को बारीक पीसने के काम आती है। 
  • पैकिंग एवं सीलिंग मशीन- यह मशीन बारीक पिसे हुए पाउडर को पैक एवं सील करने के लिए इस्तेमाल की जाती है।
  • 40 या 50 KG क्षमता वाले दो चार बड़े बर्तन- इन बर्तनों का उपयोग फैक्ट्री में प्रोसेस के दौरान वाशिंग पाउडर को रखने में किया जाता है। 
  • एक साफ़ दरी- इस पर वाशिंग पाउडर को सुखाने हेतु 12 घंटो के लिए रखते हैं।  

कितनी लागत आएगी ? (Detergent Powder Manufacturing Project Report)

detergent पाउडर का उत्पादन करने हेतु आपको मुख्य रूप से तीन मशीनें खरीदनी पड़ती हैं, मिक्सर मशीन, स्क्रेमिंग मशीन और पैकिंग मशीन। इन तीनों मशीनों को खरीदने में लगभग तीन से साढ़े तीन लाख रुपये की आवश्यकता पड़ेगी तथा रॉ मैटेरियल्स खरीदने हेतु पूँजी निवेश अलग से लगेगा। तथा आपको मशीन चलाने हेतु कुशल ऑपरेटर एवं अन्य वर्कर्स भी रखने पड़ेंगे तथा उनको उचित वेतन भी देना होगा ये भी आपके पूँजी निवेश में ही जुड़ता है। अतः Detergent powder manufacturing plant cost लगभग  5 लाख के आसपास होगी इससे कम ज्यादा भी हो सकती है यह सिर्फ एक मोटा आंकलन हैं। 

लाइसेंसिंग प्रक्रिया (Detergent powder ke liye License)

चूंकि वाशिंग पाउडर एक रासायनिक पदार्थ है इससे साफ किये गए कपड़े लोग पहनते हैं यदि इसमें कोई ख़राब केमिकल मिल जाता है या कोई ऐसा हानिकारक रॉ मैटेरियल्स डाला जाता है जो हमारे शरीर के लिए नुकसानदायक साबित हो तो इससे हमारे शरीर को क्षति पहुँच सकती है। विशेषकर हमारी त्वचा को इसलिए इस प्रोडक्ट का औद्योगिक स्तर पर उत्पादन से पहले जरूरी लाइसेंस लेना होता है, जिसमे आपको सबसे पहले उद्योग आधार से रजिस्ट्रेशन करवाना होगा तथा आपको अपने प्रोडक्ट का सैंपल भेजना होगा सैंपल के Approved होने के के बाद ही आप इसका उत्पादन कर सकते हैं तथा जीएसटी रजिस्ट्रेशन भी करवाना होता है इसके बाद प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड से NOC लेना पड़ता है तथा आपको अपना एक ब्रांड नेम चुनकर उसका ट्रेडमार्क  रजिस्ट्रेशन करवाना पड़ेगा ताकि आपके प्रोडक्ट का कोई नक़ल न कर पाए।

वाशिंग पाउडर कैसे बनता है ?(Detergent Powder Making Process)

औद्योगिक स्तर पर डिटर्जेंट या washing powder बनाने के लिए Detergent Powder Making Formula को अपनाकर निम्नलिखित प्रोसेस अपनाया जाता है-

  1. सबसे पहले एसिड स्लरी को लेकर इसमें AOS तथा डी कोल डालते हैं। 
  2. डी कोल रसायनों के हानिकारक प्रभाव को ख़त्म कर देता है। 
  3. इसके बाद इसमें CBS-X डालकर अच्छे से मिलाया जाता है। 
  4. इसके बाद सभी रॉ मैटेरियल्स को पाउडर फॉर्म में लाने के लिए मिक्सर मशीन का प्रयोग करते हैंइस मिक्सर मशीन में ग्लौबर साल्ट, सोडा ऐश, डोलोमाइट, ट्राईसोडियम फास्फेट, कलर साल्ट डालकर मिक्सर मशीन को डायरेक्ट व रिवर्स दोनों तरफ घुमाते हैं ताकि अच्छी तरह से सभी रॉ  मटेरियल मिक्स हो जाएँ। 
  5. इसके बाद इसमें कलर साल्ट, व्हाइटनर और परफ्यूम डालते हैं कलर साल्ट डालने से डिटर्जेंट का रंग आकर्षक और परफ्यूम डालने से इसमें सुगंध आ जाती है साथ ही इसमें टीनोपाल भी मिला  देते हैं जिससे कपड़े स्मूथ बने रहते हैं। 
  6. इसके बाद इसी मशीन में पहले से बनाये गए एसिड स्लरी घोल को डालते हैं इसी समय इसमें  सोडियम ट्राई पाली फास्फेट और मिथाइल सेलुलोज भी मिलते हैं। 
  7. एक बार सभी रसायन अच्छे से मिक्स हो जाने के बाद इसे साफ़ दरी पर 12 घंटे के लिए सूखने के लिए छोड़ देते हैं जब ये ये पूरी तरह से सूख जाता है तो यह मिट्टी के ढेले के आकार का हो जाता है।
  8. अब इसको बारीक पीसने हेतु स्क्रेमिंग मशीन की सहायता ली जाती है यह मशीन इस मिक्सचर को महीन बारीक पीस देती है।  
  9. इस बारीक पिसे हुए वाशिंग पाउडर को लोहे की बड़ी चलनी से चाल लेते हैं जिससे सभी दानें बराबर आकार के हो जाएँ।  

इस तरह से से डिटर्जेंट बनकर तैयार हो जाता है जिसे पैक करके बेंचा जाता है। 

detergent powder making business in hindi
detergent powder making machine

पैकेजिंग (Packaging of Detergent Powder)

पूरी तरह से तैयार हो चुके washing powder को अब छोटे बड़े पाउचों में जैसा की मार्केट में डिमांड रहती है, के अनुसार पैक किया जाता है। इस कार्य को करने हेतु पैकिंग एवं सीलिंग मशीन की सहायता ली जाती है। इस मशीन में एक निश्चित मात्रा में (100 ग्राम, 500 ग्राम, 1 किलो, 2 किलोग्राम आदि जो पहले से सेट कर दिया जाता है) ही प्रत्येक पाउच में माल गिरता रहता है और उसकी सीलिंग, पैकिंग होती रहती है। पाउच जिसमे वाशिंग पाउडर पैक किया जाता है वह दिखने में सुंदर और आकर्षक दिखे उसमे आपका ब्रांड logo छपा होना चाहिए साथ ही नीबूं, संतरा या मेंथा की इमेज छपवाने से लोगों को पहली नज़र में ही पसंद आ जाता है।      

मार्केटिंग एवं एडवरटाईजमेंट 

आपने निरमा washing powder जरूर इस्तेमाल किया होगा या उसका नाम जरूर सुना होगा इस कंपनी के मालिक श्री करसन भाई पटेल ने अपनी कंपनी के शुरूआती दिनों में निरमा वाशिंग पाउडर को गुजरात की गलियों में बेंचा करते थे ऐसा मैंने किताबों में पढ़ा है कहने का तात्पर्य यह है की कोई भी कंपनी शुरू से ही ग्रो नहीं कर जाती है इसके लिए मेहनत एवं धैर्य की जरूरत होती है। आप भी अपने प्रोडक्ट के प्रचार प्रसार हेतु प्रिंट एवं इलेक्ट्रॉनिक मीडिया एवं सोशल  मीडिया का सहारा लेकर ज्यादा से ज्यादा विज्ञापन दे सकते हैं।  

इसके अलावा अपने प्रोडक्ट की मार्केटिंग के लिए आप अपने आस पास के लोकल मार्केट्स में  होलसेल किराना स्टोर वालों से संपर्क करके उनको अपना माल सप्लाई कर सकते हैं। शुरुआत में अपने प्रोडक्ट्स को किसी इनामी कूपन के साथ गाँव गाँव जाकर बेंच सकते हो। आपको अपने प्रोडक्ट्स की क्वालिटी सही रखनी होगी ग्राहक तो खुद ब खुद आपको दूंढ़ लेते है। 

प्रॉफिट (Profit Margin in Detergent Powder)

इस बिज़नस में प्रॉफिट बहुत ज्यादा है, एक बार आपका प्रोडक्ट मार्केट में अपना सिक्का जमा ले बाद में आपको मुनाफा ही मुनाफा है, जितना ज्यादा कोई प्रोडक्ट फेमस हो जाता है उस कंपनी को उतना ही अधिक प्रॉफिट होता है।इसलिए आप शुरुआत में अपने प्रॉफिट पर ज्यादा ध्यान न देकर अपने प्रोडक्ट की क्वालिटी और पॉपुलैरिटी पर ध्यान दीजिये, प्रॉफिट अपने आप बढ़ जायेगी यदि आप इसे लॉन्ग टर्म बिज़नस बनाना चाहते हैं तो अन्यथा ज्यादा लाभ के चक्कर में आपका नुक्सान ही होगा।  

निष्कर्ष 

दोस्तों Detergent Powder Making Business in Hindi शुरू करने से पहले Detergent powder making training जरूर ले लें तभी ‘washing powder manufacturing business स्टार्ट करें’ दोस्तों मुझे उम्मीद है कि आपको इस आर्टिकल से बहुत सारी जानकारी मिली होगी ये पोस्ट आपको बहुत अच्छा एवं ज्ञानवर्धक लगा होगा यदि आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो प्लीज मुझे कमेन्ट करके बताइये और अपने दोस्तों को ज्यादा से ज्यादा शेयर कीजिये आपके कमेन्ट से हमें और अधिक प्रेरणा मिलती है  जिससे हम आपके लिए  और अधिक नए नए बिज़नेस आइडियाज ला सकें धन्यवाद।

अवश्य पढ़ें- शीर्ष 10 सबसे सफल भारतीय व्यवसायी 

About Ved Prakash Yadav


3 thoughts on “Detergent Powder Making Business in Hindi | डिटर्जेंट पाउडर का व्यवसाय”

  1. Vaijanti kushwah

    आपने बहुत अच्छी जानकारी दी है बहुत बहुत धन्यवाद।।। मै इसकी ट्रेनिंग लेने चाहती हूं।

Leave a Comment

Your email address will not be published.