Best Plan for Fish Farming Business in hindi | A to Z मछली पालन व्यवसाय की जानकारी

Fish Farming Business

Fish Farming Business एक ऐसा व्यवसाय है जिसमे छोटी मछलियों का संचयन करके रखा जाता है और जब मछलियाँ बड़ी हो जाती हैं तो उन्हें बाज़ार में बेंच दिया जाता है जिसके बदले हमें मुनाफा प्राप्त होता है। भारत एक विशाल आबादी वाला देश है। यहाँ भिन्न-भिन्न धर्म,वेश भूषा,रीति-रिवाज व खान-पान के लोग रहते हैं कुछ शाकाहारी व कुछ मांसाहारी लोग रहते हैं।

मांसाहारी लोग मुर्गा,मछली,अंडा,बकरी का गोस्त आदि खाते हैं। मछली खाने वाले बहुतायत मात्रा में पाए जाते हैं। पश्चिम बंगाल के लोग इस मामले में भारत में प्रथम स्थान पर हैं वहां का मुख्य भोजन ही मछली और चावल है। ना सिर्फ पश्चिम बंगाल बल्कि भारत के कोने-कोने तक के लोग तथा विदेशो में भी बहुत से लोग मछली खाने वाले मिल जायेंगे ऐसे में मछली की मांग बाजार में हमेशा बनी रहती है। Fish farming business ideas एक ऐसा व्यवसाय है जिसे आप अपने गाँव में रहकर भी शुरू कर सकते हैं।

इसका मुख्य कारण मछली का स्वादिष्ट होना और इसमें मौजूद कई प्रोटीन एवं विटामिन्स जिसकी वजह से यह मांस खाने वालों की पहली पसंद बनी रहती है। दोस्तों मछली पालन व्यवसाय तो बहुत से लोग करना चाहते हैं लेकिन पहली बार वो यही सोचते है कि How to start fish farming in India ? दोस्तों आज के इस पोस्ट में मैं आपके लिए FISH FARMING BUSINESS के बारे में पूरी जानकारी लाया हूँ ताकि आप इसे पढ़कर अपना व्यवसाय शुरू कर सको। इस तरह आप यदि Fish Farming शुरू करते हैं तो तो यह आपके लिए बहुत ही मुनाफे का व्यवसाय हो सकता है।

योजना बनाये (Fish farming business plan)

FISH FARMING BUSINESS स्टार्ट करने से पहले आपको इससे सम्बंधित सभी पहलुओं पर विचार कर लेना चाहिये जैसे तालाब का निर्माण कराने हेतु उचित जगह , मार्केटिंग की व्यवस्था, लेबर व्यवस्था आदि तथा आवश्यक पूँजी की व्यवस्था, प्रजाति का चयन आदि।

तालाब या टैंक का निर्माण (Pond Equipment)

Fish business के लिए तालाब का निर्माण कई तरीको से किया जाता है यदि आप के पास जगह का अभाव है तो प्लास्टिक के बड़े-बड़े टैंक खरीद सकते हैं या आपके पास प्रयाप्त जगह है तो एक बड़ा सा तालाब बनवा सकते हैं। तालाब बनवाने के बाद ब्लीचिंग पाउडर और चूने का छिडकाव करते हैं ऐसा करने से चयनित क्षेत्र में मछलियों को हानि पहुंचाने वाले कीट एवं अनावश्यक जीव मर जाते हैं। आजकल ज्यादातर लोग तालाब का निर्माण न कराकर biofloc fish farming का प्रयोग करते हैं।

प्रजाति का चुनाव

Fish farming business in india में सबसे महत्वपूर्ण एवं आवश्यक चीज है। फार्मिंग के लिए मछली की प्रजाति का चुनाव करना। भारत में रोहू,कटला, मुर्रेल,टूना ग्रास, शार्प एवं हिस्ला, सिल्वर क्रॉप ,कॉमन क्रॉप आदि प्रजाति की मछलियों का खाने में लोग बहुतायत मात्रा में प्रयोग करते हैं अतः इन प्रजातियों का मछली पालन आप के लिए ज्यादा लाभदायक होगा। ये मछलियाँ मानसून एवं परिस्थिति के अनुसार अपने आपको ढाल भी लेती हैं।

मछलियों का चारा

Fish business में मछलियों का संचयन करने से पहले आप तालाब में गोबर का छिडकाव करें इससे मछली संचयन करते समय उनके लिए पर्याप्त भोजन उपलब्ध रहता है एक हक्टेअर तालाब में लगभग 900 किलो से 1000 किलो तक का गोबर का छिडकाव कर सकते हैं। मछलियों का मुख्य भोजन तालाब में उत्पन्न होने वाली वनस्पति प्लवक है परन्तु प्रयाप्त पोषण देने के लिए मूंगफली की खली, सरसों की खली, गेंहू का चोकर, चावल व मक्का के महीन टुकड़े आदि तालाब में डाल दिए जाते हैं।

मछली बाहर कब निकालें

तालाब से मछली को तभी निकलना चाहिए जब उनका वजन पर्याप्त मात्रा में हो चूका हो आप जब भी मछली की बिक्री करने की सोंचे तो आप ध्यान रखें की मछली का वजन 1 से 1.5 किलो की हो अगर मछली का वजन इससे कम है तो आपका नुकसान हो सकता है आमतौर पर मछलियों का वजन 10 से 12 महीने में 1 से 1.5 किलो हो जाता है।

आवश्यक लाइसेंस

FISH FARMING BUSINESS चूंकि खाने-पीने की चीजों से जुड़ा है इसलिए FSSAI से इसको चलाने हेतु लाइसेंस लेना पड़ता है तथा मछलियों की शुद्धता(साफ-सुथरी एवं ताज़ी मछलियाँ) का प्रमाणपत्र भी हासिल करना पड़ता है।

लागत

FISH FARMING BUSINESS शुरू करने हेतु जहाँ तक लागत की बात की जाए तो यह इस बात पर निर्भर करती है कि तालाब कितना बड़ा है। आप small scale fish farm भी खोल सकते हैं जितने बड़े तालाब में आप मछली पालन करते हैं तो उसके हिसाब से ज्यादा मछली के बीज डालने पड़ते हैं जिससे लागत बढती है। Fish farming business plan in india में यदि आप एक सामान्य तालाब से शुरुआत करते हैं तो लगभग 50000 तथा बड़े तालाब में लगभग 100000 से 150000 रुपये की लागत से आप मछली पालन शुरू कर सकते हैं।

तालाब में जल की आपूर्ति हेतु आपको एक वाटर पम्पिंग सेट खरीदना पड़ेगा जिसकी कीमत लगभग 30000 रुपये होगी तथा मछली पकड़ने वाला यन्त्र या जाल खरीदना पड़ेगा। आपको अपने तालाब के आकार के अनुसार मेहनती श्रमिक रखने पड़ेंगे अर्थात बड़े स्तर पर शुरू करने हेतु कुल लागत को जोड़ा जाय तो लगभग दो लाख रुपये तक लगेंगे।

इसे भी पढ़ें- PM MUDRA YOJANA | मुद्रा योजना के अंतर्गत 20 लाख तक का लोन प्राप्त करें

सरकार से मिलने वाली सहायता

यदि Fish farming business के लिए सरकार से लोन लेते हैं और समय से सभी शर्तों के अधीन ऋण की राशि वापस करते हैं तो आपको एक निश्चित दर से सरकार द्वारा सब्सिडी प्रदान की जाती है जो अलग-अलग राज्यों में अलग-अलग होती है जैसे यूपी में मछली पालन (raising fish) हेतु 75% राशि(जिसमे से 50% केंद्र सरकार तथा 25% राज्य सरकार) अनुदान देती है।

मछलियों का रख रखाव

Small scale fish farming business को सुचारू रूप से चलाने के लिए आपको मछलियों का विशेष रख-रखाव करना पड़ता है, इन्हें समय-समय पर खाना देना पड़ता है तथा समय-समय पर तालाब में पोटैशियम परमैग्नेट का छिड़काव करते रहना चाहिये।

समय-समय पर तालाब के पानी की गुणवत्ता की जांच करते रहना चाहिये क्योंकि मछलियों को जीवित रहने हेतु पानी का शुद्ध होना अर्थात ना ज्यादा क्षारीय ना ज्यादा अम्लीय होना चाहिये।

मछलियों को कितना आहार देना उचित है (Feed for Fish Farming Business)

दोस्तों जो लोग मछली पालन करते हैं उनके सामने ये समस्या मुख्य रूप से आती है की मछलियों को कितना आहार देना उचित रहेगा। आहार के रूप में आप चावल की भूसी ,सरसों की खली को बराबर मात्रा में मिलाकर उसका इस्तेमाल कर सकते हैं या फिर आप Market में मिलने वाले Feed का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

दोस्तों 1 महीने में अगर हम मछलियों को 5% के दर से खाना खिलाते हैं तो 25 किलोग्राम Per Day  हमारा Feed Requirement होता है , इसी तरह 2 महीने में अगर 4% के दर से खिलाएंगे तो 30 से 35 किलोग्राम Feed  की आवश्यकता पड़ती है। 3 महीने में 4% के दर से लगभग 55 किलोग्राम , 4 महीने में 90 किलोग्राम और 5 महीने में 3% की दर से खिलाते हैं तो 108 किलोग्राम  Per Day आहार की आवश्यकता होती है।

मछली का संचयन कब करें

तालाब में मछली का संचयन करने का सही समय अप्रैल से जून तक का महिना उचित होता है। चूँकि ये business fish farm काफी लाभदायक व्यवसाय है इसलिए ध्यान रहे कि आप जब भी मछली का संचयन करें उस समय मछली का वजन 40 से 50 ग्राम और इनकी लम्बाई लगभग 35 से 40 सेंटीमीटर होनी चाहिए।

मछलियों की मार्केटिंग

मछली पालन व्यवसाय में मछली बेंचने का मुख्य बाज़ार मछली मंडी होती है। प्रत्येक शहर में मुर्गा, मछली आदि की बिक्री हेतु एक विशेष बाज़ार लगती है जहाँ सिर्फ नॉन-वेज चीजें ही मिलती हैं आप इन बाजारों में अपनी मछलियाँ पहुंचाकर बेंच सकते हैं या फिर अपने तालाब का प्रचार -प्रसार कराके अपने तालाब पर ही ग्राहको को ताज़ी मछलियाँ बेंच कर मुनाफा कमा सकते हो।

मछली पालन से कमाई

Fish farming business से कमाई की बात की जाए तो इसमें लागत से लगभग दो से तीन गुना अधिक की कमाई की जा सकती है। कमाई इस बात पर निर्भर है की आप के मछलियों की बिक्री कितनी हो रही है किस रेट पर हो रही है जितनी अच्छी गुणवत्ता की मछलियाँ रहेंगी उतनी ही अधिक कीमत मिलेगी और आपको अधिक मुनाफा होगा। इसके सिवाय आप तालाब के मेढ़ो पर केला, पपीता य अन्य कोई फलदार बृक्ष लगाकर अतिरिक्त आमदनी भी कर सकते हैं।

इस आर्टिकल में मैंने आपको fish farming business से सम्बंधित लगभग सभी जानकारी देने का प्रयास किया है ताकि आपको fish farm के बारे में अच्छी से अच्छी जानकारी मिल सके फिर भी अगर मुझसे कोई भूल हुई हो इस fish farms से सम्बंधित तो आप हमें Comment के माध्यम से जरूर बताएं ताकि हम आपकी और आगे भी मदद कर सके। धन्यवाद.

About Ved Prakash Yadav


1 thought on “Best Plan for Fish Farming Business in hindi | A to Z मछली पालन व्यवसाय की जानकारी”

Leave a Comment

Your email address will not be published.