The 3 Best Inspirational Short Stories | Motivational Story To Push You Forward In Life | Good Motivational Story

motivational story

Three Motivational Story in Hindi

 

दोस्तों आज इस आर्टिकल में मैं आपको तीन ऐसी motivational Story के बारे में बताने वाला हूँ जिसे पढने के बाद आपकी सोंच बदल जाएगी | ये कहानियां कहीं न कहीं आपको मोटीवेट तो करेगी ही साथ ही आपको अपनी सोंच बदलने के लिए कुछ एजुकेशन भी देंगी ये तीन कहानियां आपके लक्ष्य को प्राप्त करने में काफी सहायता करेंगी |

Inspiring Short Stories

1st Motivational Story

चमकीले नीले पत्थर की कीमत –

एक शहर था उस शहर में एक बहुत ही ज्ञानी साधू महाराज आये थे बहुत से गरीब और दीन दुखी लोग महाराज के दर्शन के लिए इस आस में आने लगे की एक दिन ये साधू महराज हमारी समस्या को जरूर सुलझाएंगे | कुछ दिन पश्चात् ऐसा ही एक गरीब और दुखी व्यक्ति साधू महराज के पास आया और साधू महराज से बोला महराज मैं बहुत ही गरीब इंसान हूँ मेरे ऊपर लोगों का कर्जा भी बहुत है जिससे मैं बहुत ही परेशां रहता हूँ कृपा करके मेरे ऊपर कुछ उपकार करें |

साधु महाराज ने उस व्यक्ति को एक नीले रंग का चमकीला पत्थर दिया और उन्होंने उस गरीब व्यक्ति से कहा कि ये बहुत ही कीमती पत्थर है तुम इस पत्थर को ले जाओ और जितनी कीमत लगवा सको उतनी कीमत लगवा लो, वह व्यक्ति साधु महाराज के पास से चला गया और उसे बेचने के इरादे से अपनी जान पहचान के एक फल वाले विक्रेता के पास गया और उस पत्थर को दिखा कर उसकी कीमत जाननी चाही | उस व्यक्ति ने उस फल वाले व्यक्ति से बोला कि ये पत्थर मुझे एक साधु महात्मा ने दिया है इसकी कितनी कीमत आप दे सकते हैं फल विक्रेता बोला भाई मुझे तो यह नीला शीशा लगता है हां यह बात अलग है कि यह सुंदर और काफी चमकदार दिखता है अगर तुम मुझे इसे दे देते हो तो इसके बदले में मैं तुम्हें ₹1000 दे दूंगा वह आदमी सोचने लगा की साधु महात्मा ने मुझे बताया था कि तुम जितनी कीमत लगवाना चाहो लगवा लो तो वह व्यक्ति वहां से निराश होकर एक दूसरे जान पहचान वाले व्यक्ति के पास गया जो बर्तनों का व्यापारी था | उस पत्थर को बर्तन वाले व्यापारी को दिखाकर उस पत्थर की कीमत उसने जाननी चाही | बर्तन का व्यापारी बोला यह पत्थर कोई विशेष पत्थर है अगर यह पत्थर तुम मुझे दे देते हो तो इसके बदले मैं तुम्हें ₹10000 दे दूंगा व्यक्ति सोचने लगा की इसकी कीमत और भी अधिक होगी इसलिए वह आदमी वहां से चल दिया | उस आदमी ने उस पत्थर को एक सुनार को दिखाया सुनार उस पत्थर को देखने के बाद बोला यह पत्थर काफी कीमती है और इसके बदले मैं तुम्हें ₹100000 दे सकता हूं | साधु महात्मा ने जिस आदमी को वह नीला पत्थर दिया था वह आदमी समझ गया यह पत्थर बहुत ही अमूल्य है क्यों ना मैं इस पत्थर को हीरे के व्यापारी को दिखाऊँ पत्थर को लेकर शहर के सबसे बड़े हीरे के व्यापारी के पास गया , हीरे के व्यापारी ने जब उस पत्थर को देखा तो वह चौंक सा गया उसने उस पत्थर को अपने माथे पर लगाया और पूछा की यह आपको कहां से मिला है यह तो अमूल्य वस्तु है अगर मैं पूरी संपत्ति बेच दूं तो भी इसकी कीमत आपको नहीं चुका सकता |

Story से सीख

हम अपने आप को किस तरह से आंकते हैं लोग हमारे बारे में क्या सोचते हैं हमें इस से मतलब नहीं है आपका जीवन अमूल्य है आपके जीवन का कोई भी व्यक्ति मोल नहीं लगा सकता आपके अंदर वह हुनर है जो आप कुछ भी कर सकते हैं लोग आपके बारे में क्या सोचते हैं उन्हें सोचने दीजिए लेकिन आप अपने आप को किसी से कम मत आंकिये |

Educational Story

2nd Motivational Story

मेढकों की टोली – 

एक मेढ़कों की टोली जंगल के रास्ते से जा रहा था उस टोली में से अचानक दो मेढ़क एक गहरे खाई में गिर गए जब दूसरे मेढकों ने देखा की खाई बहुत गहरा है तो ऊपर खड़े सभी मेंढक चिल्लाने लगे | तुम दोनों इस खाई से नहीं निकल सकते हो क्योंकि खाई बहुत ही गहरा है तुम दोनों इस खाई में से निकलने की उम्मीद बिल्कुल छोड़ | दो खाई अधिक गहरा होने के कारण वह दोनों मेंढक ऊपर खड़े सभी मेढकों की बात सुन नहीं पाए और वह लगातार बाहर निकलने के लिए उछल कूद करते रहे | खाई के बाहर खड़े सभी मेंढक लगातार कहते रहे कि तुम दोनों बेकार में ही मेहनत कर रहे हो तुम बाहर नहीं निकल सकते हो इसलिए तुम दोनों को हार मान लेनी चाहिए खाई में गिरे दोनों मेढकों में से एक मेंढक ने ऊपर खड़े मेढकों की बात सुन ली और उस मेढक ने उछलना बंद कर दिया क्योंकि वह निराश हो गया था और उसे लगता था कि अब मैं बाहर नहीं निकल पाऊंगा इसलिए निराश होकर वह एक कोने में जाकर बैठ गया जबकि दूसरे मेंढक ने बाहर निकलने के लिए अपना प्रयास जारी रखा और वह मेंढक जितना उछल सकता था बाहर निकलने के लिए उछलता रहा | खाई के बाहर खड़े सभी मेंढक लगातार यही कह रहे थे कि तुम्हें भी हार मान लेनी चाहिए तुम बाहर नहीं निकल सकते दूसरा मेंढक शायद उनकी बातों को नहीं सुन पा रहा था और वह उछलता रहा काफी मशक्कत के बाद वह मेंढक बाहर आ गया | खाई के बाहर खड़े सभी मेढकों ने कहा क्या तुमने हमारी बात नहीं सुनी जो हम कह रहे थे उस मेंढक ने इशारा करके बताया कि वह उनकी बात नहीं सुन सकता क्योंकि वह बहरा है इसलिए वह बाहर निकलने के लिए चलता रहा उसे लगा कि बाहर निकलने के लिए सभी लोग उसका उत्साह बढ़ा रहे हैं |

Story से सीख

  • लोग कुछ भी बोले अगर आपके अंदर की सोच पॉजिटिव है तो आप कुछ भी कर सकते हैं |
  • किसी भी काम को करने के लिए सकारात्मक सोचे और पूर्ण तरीके से अपने आप पर विश्वास रखें |
  • इस कहानी से हमें यह शिक्षा मिलती है की कड़ी मेहनत करने के बाद हम किसी भी चीज को हासिल करने में सफलता प्राप्त कर सकते हैं |

3rd Motivational Story

 

चील और मुर्गी

एक जंगल में एक बरगद का पेड़ था उस पेड़ पर एक चील घोंसला बनाकर रहती थी उसने अंडे दे रखे थे उसी बरगद के पेड़ के नीचे एक मुर्गी ने भी अंडे दे रखे थे | एक दिन पेड़ के ऊपर घोसले में रखे चील के अंडों में से एक अंडा नीचे गिर कर मुर्गी के घोसले में जाकर मिल गया | समय बीतता गया जब अंडा फूटा और उस अंडे में से चील का बच्चा बाहर निकला तो वह यह सोचते हुए बड़ा हुआ कि वह एक मुर्गी का बच्चा है | वह चील का बच्चा मुर्गी के सभी बच्चों के साथ बड़ा हुआ उन्हीं के साथ खेलता उन्हीं के साथ रहता जो काम मुर्गी करती वह भी उसी काम को करता रहता वह मुर्गी की तरह है कुकड़ू कु करता,जमीन खोदकर दाने चुगता और वह इतना ही ऊंचा उड़ पाता जितना कि एक मुर्गी उड़ती है | एक दिन उसने आसमान में एक चील को बड़ी शान से उड़ते हुए देखा उसने अपनी मुर्गी मां से पूछा कि उस चिड़िया का क्या नाम है जो बड़ी शान से इतने ऊंचे उड़ रही है मुर्गी ने कहा कि वह एक चील है फिर चील के बच्चे ने मुर्गी मां से पूछा कि क्या मैं इतना ऊंचा नहीं उड़ सकता मुर्गी मां बोली कि तुम इतने ऊंचे नहीं उड़ सकते क्योंकि तुम एक मुर्गे हो उस चील के बच्चे ने मुर्गी मां की बात मान ली और मुर्गे की जिंदगी को जीता हुआ एक दिन मर गया |

 

Story से सीख

  • यदि हम कुछ करने के लिए सोचते हैं तो दूसरे लोग हमें यह कहकर रोक देते हैं कि तुम ऐसा नहीं कर सकते हो, ऐसा नहीं हो सकता है और हम एक दिन अपना इरादा यह सोचकर बदल देते हैं कि वाकई में हम यह नहीं कर सकते और अंत में हम लोग हार मान लेते हैं | इसका मेन कारण यह है कि हमको अपने ऊपर विश्वास नहीं होता अपनी शक्तियों पर हमें भरोसा नहीं होता है |
  • असल में जो लोग आपको यह कहते हुए नजर आते हैं कि आप ये नहीं कर सकते वो नहीं कर सकते वही लोग आप को हराने में लगे हुए होते हैं इसलिए आप किसी की भी बातों में ना आएं और आप अपने आप पर भरोसा रख कर आगे बढ़े |

इसे नहीं पढ़ा है तो जरूर पढ़ें –
How to Start a business for Become a Successful Businessman
Business Tips in Hindi for Success
PM Mudra Yojna 20 लाख तक का लोन पूरी जानकारी
FSSAI License की अधिक जानकारी के लिए क्लिक करें

आपको हमारा यह पोस्ट कैसा लगा हमें Comment में जरूर बताएं और आप हमारे पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ Share करना बिलकुल न भूलें और हमारे Blog पर इसी तरह के नए Business Ideas को पढ़ने के लिए हमारे Blog को Subscribe करें | धन्यवाद

दोस्तों एक पोस्ट तैयार करने में बहुत मेहनत करनी पड़ती है आपका एक LIKE ,SHARE  और COMMENT हमें प्रोत्साहित कर सकता है जिससे हम आपके  लिए और नई-नई जानकारी देते रहेंगे साथ ही हमें ख़ुशी मिलती है कि किसी भाई ने हमारे पोस्ट को LIKE किया। 

About Amit Kumar

Hello Friends! मेरा नाम अमित कुमार है, मैं एक फुल टाइम Youtuber और Blogger हूँ. मेरा मकसद उन लोगों को आगे बढाने का है जो लोग बिज़नस करके आगे बढ़ना चाहते हैं लेकिन कुछ लोगों को सही जानकारी न होने के कारण आगे नहीं बढ़ पाते हैं. इस ब्लॉग पर आपको नई-नई बिज़नस Read More


Leave a Comment

Your email address will not be published.