Namkeen Biscuit Making Business in Hindi | बिस्कुट बनाने का उद्योग

namkeen biscuit making business

Namkeen Biscuit सुबह चाय के साथ खाया जाने वाला लोगों का सबसे पसंदीदा खाद्य पदार्थ है। यह गाँव हो शहर हर जगह धड़ल्ले से बिकने वाला प्रोडक्ट्स है। यह हर आयु वर्ग के व्यक्ति चाहे छोटा बच्चा हो या बूढ़े या जवान बड़े चाव से खाते हैं इसलिए Namkeen Biscuit Making Business में अपर संभावनाएं हैं। इसकी मांग बाज़ार में हमेशा बनी रहती है, वहीँ बाज़ार में पहले से ही कई सारे बिस्कुट मैन्युफैक्चरर्स मौजूद हैं जो की तरह तरह के बिस्कुट बनाकर लोगों को बेंचते हैं इस तरह से इस बिज़नस में competition बहुत ज्यादा है फिर भी आप अपने प्रोडक्ट की क्वालिटी को सही रखिये बिक्री का कोई इश्यु नहीं रहता है।

आज के इस पोस्ट में मैं आप लोगों को नमकीन बिस्कुट बनाने के बिज़नस के बारे में सम्पूर्ण जानकारी दूंगा जिसे आप लोग पढ़कर अपना बिज़नस आसानी से शुरू कर सको।

नमकीन बिस्कुट का फ्यूचर मार्केट

किसी भी बिज़नस को शुरू करने से पहले आपको ये पता होना जरूरी है की उस व्यापार की स्थितिआपके क्षेत्र में कैसी है? कई ऐसे व्यापार होते हैं जो क्षेत्र विशेष में बहुत चलते हैं वहीँ अन्य जगहों पर नहीं चल पाते हैं इसलिए किसी भी व्यापार को शुरू करने से पहले उस व्यापार का बाज़ार कैसा है इसके बारे में अच्छे से जानकारी हासिल कर लें यदि देखा जाय तो हमारे देश की जनसँख्या अधिक होने के कारण ग्राहक अधिक रहते हैं इसलिए बिस्कुट का व्यापार सबसे लाभदायक व्यवसाय है। आने वाले समय में इस व्यापार के बढ़ने के बहुत ज्यादा आसार हैं क्योंकि यह हर घर में हर व्यक्ति द्वारा खाया जाने वाला प्रोडक्ट है। 

फैक्ट्री कहाँ लगाएं ?

किसी भी फैक्ट्री को लगाने हेतु सबसे पहले सभी को यही सलाह दिया जाता है कि फैक्ट्री उस जगह पर लगाई जाय जहाँ पर यातायात की पूरी सुविधा हो। विद्युत् कनेक्शन उपलब्ध हो मार्किट के नजदीक हो इसलिए आपको किसी ऐसे जगह का चुनाव करना चाहिए जहाँ ये सारी सुविधाएं उपलब्ध हो ताकि बाद में किसी दिक्कत का सामना न करना पड़े। 

बिस्कुट बनाने का कच्चा माल

Namkeen Biscuit के औद्योगिक स्तर पर PRODUCTION हेतु निम्नलिखित कच्चे माल की  आवश्यकता होती है-

  • गेहूं का आटा- बिस्कुट बनाने में सबसे महत्वपूर्ण कच्चा माल गेहूं का आटा होता है यह  इस इंडस्ट्री का बेस रॉ मटेरियल है। 
  • सुगर(चीनी)- नमकीन बिस्कुट बनाने में भी चीनी की थोड़ी मात्रा मिलाई जाती है ताकि बिस्कुट स्वादिष्ट लगे।  
  • वनस्पति तेल- इस तेल का उपयोग बिस्कुट को बेकिंग करने हेतु प्रयोग किया जाता है। 
  • नमक- स्वाद अनुसार नमक मिलाया जाता है। 
  • ग्लूकोस- बिस्कुट में एनर्जी लेबल बढ़ाने हेतु ग्लूकोस मिलाया जाता है। 
  • दूध पाउडर- बिस्कुट को स्वादिष्ट बनाने हेतु उसमे दूध पाउडर भी मिलाया जाता है। 
  • बेकिंग पाउडर-  बेकिंग पाउडर का उपयोग आंटा को गूंथते वक्त फुलाने में किया जाता है। 

आवश्यक मशीनरी (Biscuit Making Machine for Small Business)

औद्योगिक स्तर पर namkeen biscuit के उत्पादन हेतु निम्नलिखित मशीनों का उपयोग किया जाता है-

  • मिक्सर मशीन-  इस मशीन का सभी रॉ मैटेरियल्स को एक साथ मिक्स करने के लिए उपयोग किया जाता है।  
  • ड्रापिंग मशीन- इस मशीन से सही से मिक्स किये गए मिश्रण को बिस्कुट का आकार दिया जाता है। यह मशीन आप जिस आकार में बिस्कुट चाहते हैं उसी आकार में बिस्कुट ढालती है। 
  • बेकिंग ओवन मशीन- इस मशीन से बिस्कुट को मध्यम एवं धीमी आंच पर बेक (सेंका जाता है) किया जाता है जिससे बिस्कुट कच्चा न रह जाय। 
  • पैकिंग मशीन-  इस मशीन से बिस्कुट को पाउच में पैक किया जाता है। 
namkeen biscuit making business
namkeen biscuit making business

कितना निवेश करना होगा (Biscuit Factory Setup Cost in India)

Namkeen Biscuit का व्यावसायिक स्तर पर उत्पादन करने के लिए आपको सभी उच्च कोटि की मशीनरी एवं उपकरण को खरीदने हेतु लगभग ढाई से तीन लाख रूपए की आवश्यकता होगी तथा कच्चा माल खरीदने हेतु एवं अन्य आवश्यकताओं हेतु आपको अलग से निवेश की जरूरत पड़ेगी यह निवेश आपके ऊपर निर्भर करता है की आप शुरुआत में कितना रॉ मैटेरियल्स लेकर अपना Namkeen biscuit making business स्टार्ट करना चाहते हैं वैसे तो आदर्श यही होता है की शुरुआत में थोडा रॉ मैटेरियल्स से ही स्टार्टअप किया जाय और बिज़नस ग्रो होने के साथ अपना पूँजी निवेश बढ़ा सकते हैं।    

लाइसेंस (License for namkeen biscuit making business)

चूंकि बिस्कुट एक खाद्य पदार्थ है इसलिए इसका FSSAI से लाइसेंस लेना अत्यंत आवश्यक है। सबसे पहले आपके plant से बिस्कुट का सैंपल विभागीय अधिकारी ले जाते हैं और आवश्यक मानक के अनुसार गुणवत्ता सही पाए जाने पर ही आपको लाइसेंस प्राप्त होता है। इसके अलावा आपको जीएसटी रजिस्ट्रेशन भी करवाना पड़ेगा तथा आपको अपने ब्रांड नेम का ट्रेडमार्क  रजिस्ट्रेशन कराना भी जरूरी होता है ताकि कोई आपके प्रोडक्ट्स का डुप्लीकेट बनाकर न बेंच पाए।   

बिस्कुट बनाने का प्रोसेस (Biscuit making process)

औद्योगिक स्तर पर Namkeen Biscuit बनाने के लिए निम्नलिखित प्रोसेस अपनाया जाता है-

  • सभी रॉ मैटेरियल्स को मिक्सर मशीन में मिक्स करना- सबसे पहले नमकीन बिस्कुट बनाने में  प्रयुक्त होने वाले सभी कच्चे माल जैसे गेहूं का आंटा, चीनी, ग्लूकोस, मिल्क पाउडर नमक आदि को इस मशीन में डालकर अच्छे से मिक्स किया जाता है सही से मिक्स हो जाने के बाद इसमें पानी मिलाकर अच्छे से गूंथ लिया जाता है।  
  • ड्रापिंग मशीन से सांचे में ढालना- अब गुंथे हुए आंटे को बिस्कुट का आकार देना होता है जिसे  ड्रापिंग मशीन में दाल दिया जाता ही जिसमे से आंटा बिस्कुट के आकार में बाहर निकलता रहता  है जिसे हलके आंच पर सेंका जाता है। 
  • बेकिंग करना- बिस्कुट को अब बेकिंग ओवन मशीन में धीमे आंच पर सेंका जाता है जब इसका रंग सुनहरा हो जाता है तब माना जाता है कि बिस्कुट खाने के लायक तैयार हो गया  है जिसे अब पैकेट और गत्ते में पैक करने के लिए पैकिंग रूम रूम में लाया जाता है। 

पैकेजिंग

पूरी तरह से तैयार बिस्कुट को अच्छे क्वालिटी के पैकेट में पैक किया जाता है। पैकेट अच्छा होना चाहिए क्योंकि बिक्री में अच्छी पैकिंग का भी अहम् रोल होता है पैकेट के ऊपर सारी आवश्यक जानकारियां दी जाती हैं जैसे कि मैन्युफैक्चरिंग डेट, एक्सपायरी डेट, प्राइस आदि। अब इन छोटे छोटे पैकेट्स को बड़े बड़े गत्तों में पैक करके थोक विक्रेताओं के पास भेज दिया जाता है जहाँ से रिटेल व्यापारी ले जाकर इसे बेंचते हैं। 

मार्केटिंग

जैसा की आप सभी लोगों को भी पता होगा की किसी भी फैक्ट्री को लगाने का उद्देश्य लाभ कमाना होता है और लाभ तभी मिलता है जब उस फैक्ट्री का माल सेल होगा इसलिए आपको भी अपने  फैक्ट्री के प्रोडक्ट्स को ज्यादा से ज्यादा सेल कराने हेतु प्रयास करने होंगे इसके तहत आपको  समाचार पत्र पत्रिकाओं में विज्ञापन देना होगा जगह जगह बैनर पोस्टर के जरिए अपने प्रोडक्ट्स के बारे में लोगों को बताना होगा और आप विभिन्न लोकल मार्केट में थोक विक्रेताओं से संपर्क करके आप उनको अपना नमकीन बिस्कुट बेंच सकते हैं।  

प्रॉफिट (Biscuit Business Profit)

Namkeen Biscuit बनाने में प्रयुक्त होने वाला मुख्य कच्चे माल गेहूं की बाज़ार में Price 15 से 20 रुपये प्रति किलो तक होती है तथा अन्य मैटेरियल्स बहुत कम मात्रा में मिलाये जाते हैं। इस प्रकार से एक किलो बिस्कुट तैयार होने में 50 रुपये से भी कम की लागत आती है। वही बिस्कुट का मार्केट रेट 80 से 100 रुपये प्रति किलो के बीच रहता है यदि आप अपने होलसेलर को 70 से 75 रुपये प्रति किलो के दर से भी अपने ब्रांड का नमकीन बिस्कुट बेंचते हो तब भी आपको लगभग 40 से  50 % प्रॉफिट मार्जिन मिल रहा है।   

निष्कर्ष 

दोस्तों हमें आशा एवं पूर्ण विश्वास है की आप इस पोस्ट को पढने के बाद जरूर लाभान्वित हुए होंगे और अपना Namkeen Biscuit Making Business का कारोबार शुरू कर लिया होगा या करने  की सोंच रहे होंगे यदि यह पोस्ट आपको पसंद आया हो तो प्लीज कमेन्ट  करें एवं अपने दोस्तों  को जरूर शेयर करें ताकि वें भी इसका लाभ उठा सकें धन्यवाद।  

Also Read – आलू के चिप्स बनाने का उद्योग कैसे शुरू करें ?

 

About Ved Prakash Yadav


Leave a Comment

Your email address will not be published.