Popcorn Making Business in Hindi | पॉपकॉर्न बनाने का बिज़नस कैसे शुरू करें ?

popcorn making business

दोस्तों अगर हम popcorn making business की बात करें तो यह काफी चलने वाला बिज़नस है क्योंकि इसे बच्चों से लेकर वयस्क तक सभी लोग खाना पसंद करते हैं। दोस्तों यह एक ऐसा स्नैक्स आइटम हैजो सभी आयु वर्गों के लोगों के बीच काफी लोकप्रिय है इसे हर किसी को रास्ते  में सफ़र करते वक्त बस, ट्रेन में या फिल्म देखते वक्त स्टेज शो देखते समय आदि स्थानों पर भी खाते हुए देखा जा सकता है। बच्चे तो इसको खाने की जिद पकड़ कर बैठ जाते हैं और जब तक पॉपकॉर्न उन्हें नहीं मिल जाता है तब तक मानते नहीं हैं। पॉपकॉर्न खाने में स्वादिष्ट होने के साथ साथ पचने में भी आसान होता है इसको कितना भी खा लो यह शरीर पर कोई साइड इफेक्ट नहीं डालता है।

यही कारण है की बाज़ार में पॉपकॉर्न की मांग हमेशा बनी रहती है और सभी लोगों के बीच ज्यादा पसंद किया जाता है ऐसे में अगर आप पॉपकॉर्न बिज़नस स्टार्ट करना चाहते हैं तो कम पूँजी में यह बहुत ही अच्छा बिज़नस साबित हो सकता है। 

आज के इस पोस्ट में मैं आप लोगों को popcorn making business कैसे शुरू करें? इसकी सम्पूर्ण जानकारी दूंगा ताकि आप  भी इस पोस्ट को पढ़कर अपना बिज़नस आसानी से शुरू कर सको।

अवश्य पढ़ें- 25 न्यू बिज़नेस आईडिया इन हिंदी 

पॉपकॉर्न क्या है ? (What is Popcorn Making Business)

पॉपकॉर्न एक प्रकार का स्नैक्स आइटम है जिसे मक्के को सरसों के तेल की थोड़ी सी मात्रा में भुनाजाता है और मक्का भूनने के बाद फूल जाता है इसे ही पॉपकॉर्न कहा जाता है इसकी तासीर गर्म होती है यह शरीर को गर्मी प्रदान करता है यह विशेष रूप से ठंडी के सीजन में ज्यादा पसंद किया जाता है। 

फैक्ट्री कहाँ लगाएं ?

यदि आप पॉपकॉर्न का बिज़नस छोटे स्तर पर ठेला या रेड़ी पर करते हैं तो आपको कोई भीड़भाड़ वाली जगह का चुनाव करना चाहिए जैसे स्कूल, अस्पताल, बस स्टेशन, रेलवे स्टेशन आदि ऐसी जगहों पर आपको ग्राहक हमेशा मिलते रहेंगे।

यदि आप पॉपकॉर्न का उत्पादन बृहत् स्तर पर करना चाह रहे हो तो आपको अपनी फैक्ट्री सदैव मार्केट में या मार्केट के नजदीक ही चुनना चाहिए जहाँ पर यातायात आवागमन की सुविधा हो जिससे आपका कच्चा माल समय से फैक्ट्री तक पहुँच सके और आपका तैयार माल ग्राहकों तक  तुरंत पहुचाया जा सके।   

यह किससे बनता है ? (रॉ मटेरियल)

पॉपकॉर्न विशेष रूप से मक्के से ही बनाया जाता है इसमें मुख्य रूप से प्रयुक्त होने वाला कच्चा  माल मक्का ही है। इसके सिवाय इसको स्वादिष्ट और चटपटा बनाने के लिए इसमें निम्नलिखित चीजें भी मिलायी जाती हैं-

  • मक्का– पॉपकॉर्न बनाने में सबसे मुख्य कच्चा माल मक्का है इसी को भूनकर पॉपकॉर्न तैयार  होता है। 
  • गरम मसाला- यह पॉपकॉर्न को चटपटा बनाने के लिए प्रयुक्त किया जाता है।  
  • शुद्ध सरसों का तेल या घी- इसका प्रयोग पॉपकॉर्न को भूनने के लिए अल्प मात्रा में किया जाता  है। 
  • नमक- स्वाद के अनुसार  नमक भी मिलाया जाता है जिससे पॉपकॉर्न ज्यादा जायकेदार हो जाता  है यदि काला नमक मिलाया जाय तो और अच्छा रहता है। 
  • हल्दी-  इसकी भी थोड़ी सी मात्रा इस्तेमाल की जाती है। 

कौन कौन सी मशीनरी लगेंगी ? (Popcorn Making Machine)

popcorn making business
popcorn making machine

popcorn making business शुरू करने में मुख्य रूप से सिर्फ दो ही मशीनों का उपयोग होता है-

  • Popcorn Making Machine- यह मशीन मक्के के दाने से पॉपकॉर्न तैयार करती है। 
  • Sealing and Packing Machine- इस मशीन से तैयार पॉपकॉर्न को पैक किया जाता है पाउच में नाइट्रोजन गैस भर दिया जाता है जिससे पॉपकॉर्न जल्दी खराब न हो और उसका कुरकुरापन बना रहे।  
  • Gas Cylinder- गैस से मशीन को हीट किया जाता है। 

Popcorn Making Machine कहाँ से खरीदें ?

पॉपकॉर्न बिज़नस की शुरुआत करने के लिए आप अपने नजदीकी शहर में जाकर मशीन विक्रेता का पता लगायें यदि आपको मशीन से सम्बंधित अधिक जानकारी चाहिए तो आप Indiamart.com की वेबसाइट पर visit कर सकते हैं।

लागत कितनी आएगी ?

popcorn making business बनाने का व्यवसाय दो तरह से शुरू किया जा सकता है-

  1. कम पूँजी में ठेला या रेड़ी पर-  यदि आपके पास पूँजी का अभाव है या आप शुरुआत में कम पूँजी  लगाना चाहते हैं तो कम से कम 40 से 50 हजार रुपये की पूँजी लगाकर भी आप आराम से महीने में लगभग 10 से 15 हजार रुपये कमा सकते हैं इसमें आपको एक ठेला खरीदना होगा या किराये पर भी ले सकते हैं तथा पॉपकॉर्न बनाने वाली एक छोटी सी मशीन और एक गैस सिलेंडर खरीद लीजिये तथा 50 किलोग्राम मक्का लेकअपना बिज़नस स्टार्ट कर दीजिये इसमें आपको किसी  लाइसेंस की भी जरूरत नहीं पड़ेगी।   
  2. ज्यादा पूँजी लगाकर फैक्ट्री स्थापित करके-  दूसरा तरीका है यदि आपके पास पूँजी है और आप  पॉपकॉर्न के क्षेत्र में कुछ बड़ा करना चाहते हैं तो आपको पॉपकॉर्न बनाने वाली एक बड़ी मशीन तथा एक पैकेजिंग मशीन खरीदनी पड़ेगी जो लगभग 2 से 3 लाख रुपये में मिल जायेगी। और अपने पॉपकॉर्न को तैयार करने के बाद एक मार्केटिंग पैनल तैयार रखना होगा जिससे ताज़ा  माल जल्दी से जल्दी बिक जाया करे क्योंकि पॉपकॉर्न एक ऐसा प्रोडक्ट है जो ज्यादा दिन तक  सुरक्षित नहीं रखा जा सकता है। 

कितनी जगह की आवश्यकता होगी ?

दोस्तों Popcorn making business शुरु करने के लिए आपको 400 से 500 स्कवायर फुट जगह की आवश्यकता होगी उद्दमी को अपने व्यापर में investment के अनुसार अलग-अलग जगह की व्यवस्था करनी पड़ सकती है।

कैसे बनता है ? (Popcorn making process)

मशीन के माध्यम से पॉपकॉर्न बनाने की प्रक्रिया बेहद सरल है। सबसे पहले ताजे मक्के को धूप में सुखा लेते हैं एवं सूख जाने के बाद खराब दानो को बाहर निकाल देते हैं ताकि पॉपकॉर्न बनाने हेतु मक्का एकदम शुद्ध एवं साफसुथरा हो। अब पॉपकॉर्न मेकिंग मशीन को ऑन करते हैं और  मशीन के हीटिंग सेक्शन में सरसों का तेल या घी और नमक डालने के बाद मक्के के सूखे दानों को डाल देते हैं जो गर्मी के कारण भूनकर फूल कर के पॉपकॉर्न का आकार ले लेता है। जब पॉपकॉर्न तैयार हो जाती है तो उसकी पैकेजिंग करनी होती है जिसे पैकिंग मशीन  से सील करते हैं ताकि ग्राहकों के पास पहुँचते पहुँचते इसकी गुणवत्ता (कुरकुरापन) बनी रहे। 

पैकिंग (Popcorn packaging)

popcorn को पोलिथीन के पाउच में पैक किया जाता है ताकि इसमें नमी न प्रवेश हो साथ ही इसमें नाइट्रोजन गैस मिलाई जाती ताकि पॉपकॉर्न जल्दी नम न हो जाय पॉपकॉर्न  खाने में तब तक अच्छा लगता है जब तक उसका कुरकुरापन बना रहता  है और नम हो जाने के बाद कोई इसे खाना पसंद नहीं करेगा इसलिए इसके पाउच में नाइट्रोजन गैस भरी जाती है। 

popcorn making business
popcorn making business

क्या कोई लाइसेंस भी लगेगा ?

चूंकि पॉपकॉर्न एक स्नैक्स आइटम है जो खाने के उपयोग में लिया जाता है इसलिए यदि आप बड़ेस्तर पर यह बिज़नस करना चाहते है तो आपको फ़ूड लाइसेंस लेना पड़ता है। तथा जीएसटी का  रजिस्ट्रेशन भी करवाना पड़ेगा जीएसटी टैक्स तब देना पड़ता है जब आपका सालाना टर्नओवर 20 लाख से ज्यादा हो साथ ही उस जगह के लोकल अथॉरिटी से जहाँ आपकी फैक्ट्री लगी  हुयी है, से भी परमिशन लेना पड़ता है आपको प्रदूषण बोर्ड से भी NOC लेना पड़ सकता है।

इसको कहाँ बेंचे ?

जहाँ तक पॉपकॉर्न के बिक्री का सवाल है यदि आप छोटे स्तर पर किसी ठेले या रेड़ी पर छोटी मशीन से अपना बिज़नस करते हैं तो आपको अपना ठेला किसी भीड़भाड़ वाली जगह जैसे स्कूल या अस्पताल के सामने या किसी भीड़भाड़ वाले नुक्कड़ पर लगाना चाहिए जिससे आपकी बिक्री ज्यादा होगी और आपको ज्यादा मुनाफा होगा।

यदि आप बड़े स्तर पर उत्पादन कर रहे हैं तब आप ठेले पर तो बेंच नहीं सकते है इसलिए आपको ऐसे लोगों से संपर्क करना होगा जो आपसे होलसेल रेट में आपका माल खरीद कर रिटेलर को  बेंचते हों और आपको बस स्टेशन, रेलवे स्टेशन, बड़े बड़े शोपिंग माल में चिप्स कुरकुरे नमकीन पाश्ता आदि की दुकान लगाने वालों से संपर्क कर उनको अपना माल सप्लाई कर सकते हो।    

कितनी होगी कमाई ? (Popcorn Business Profits)

आप को किसी भी बिज़नस के शुरूआती दिनों में ज्यादा प्रॉफिट की नहीं बल्कि अपने प्रोडक्ट की क्वालिटी और पॉपुलैरिटी पर ध्यान देना चाहिए। यदि आपका प्रोडक्ट एक बार मार्केट में अपना सिक्का जमा लेता है तो फिर आपको प्रॉफिट का कोई इश्यु ही नहीं रहेगा और आपका बिज़नस दिन दूना रात चौगुना की गति से ग्रो करेगा जिसमे प्रॉफिट की कोई सीमा ही नहीं रह जायेगी। वैसे तो एक किलोग्राम मक्के की मार्केट प्राइस 15 से 20 रुपये तक है और इसको पॉपकॉर्न बनने तक में जो खर्च आता है उससे दो गुने मूल्य पर पॉपकॉर्न बाज़ार में धड़ल्ले से बिक जाता है इसलिए इस बिज़नस में कमाई बहुत ज्यादा है।  

निष्कर्ष 

दोस्तों मुझे आशा एवं पूर्ण विश्वास है आपने हमारे इस पोस्ट Popcorn Making Business को जरूर पढ़ा होगा और आपने Popcorn Making Business शुरू करने का प्लान बना लिया होगा। यदि आपको यह पोस्ट पसंद आया हो और आपके लिए थोडा बहुत भी हेल्पफुल रहा हो तो आप इसे अपने दोस्तों को शेयर करना न भूलियेगा  धन्यवाद। 

अवश्य पढ़िए –सरसों तेल मिल का उद्योग कैसे शुरू करें ?

   

About Ved Prakash Yadav


Leave a Comment

Your email address will not be published.