Potato Chips Business Idea in Hindi | Process, Profit Margin & Investment

Potato chips business

Potato Chips Business एक ऐसा व्यवसाय है जिसके प्रोडक्ट को बच्चों से लेकर बड़े बूढ़े तक बड़े चाव से खाते है। इसका लाजबाब स्वाद ही सबको अपनी ओर आकर्षित कर लेता है।चिप्स गाँव हो या शहर हर जगह धड़ल्ले से बिकता है। इसकी हर जगह पर मांग बराबर बनी रहती है यदि आप भी कोई ऐसा बिज़नस करना चाहते हो जो कम पूँजी से शुरू हो सके और जिसके प्रोडक्ट्स की मांग बाज़ार में सदैव बनी रहे तो Potato chips business plan आपके लिए बहुत अच्छा रहेगा।

दोस्तों अक्सर लोगों के मन में ये सवाल होता है कि how to start potato chips business. आज के इस पोस्ट में मैं आप लोगों को Potato Chips Business को कैसे start करें, के बारे में सम्पूर्ण जानकारी देने वाला हूँ। 

Potato Chips Business Plan में संभावनाएं 

वर्तमान में आप कहीं भी चले जाइए चाहे वह सड़क किनारे उपलब्ध कोई किराना स्टोर हो या डिपार्टमेंटल स्टोर या फिर किसी Shopping mall में उपलब्ध स्टोर एवं सुपर मार्किट या कोई जलपान संबंधी दूकान लगभग सभी जगह Potato chips आपको मिल जाता है। इस प्रकार के स्नैक्स आइटम की बिक्री में बीते कुछ वर्षों से काफी इजाफा हुआ है, शायद इसका मुख्य कारण  वर्तमान में लोगों की चलती फिरती जीवन शैली का होना है।

समय व्यतीत होने के साथसाथ यातायात सुविधाओं में वृद्धि एवं विकास के चलते लोगों का एक शहर से दुसरे शहर आना जाना बढ़ गया है।लोग चिप्स कुरकुरे खरीदकर रख लेते हैं एवं रास्ते में खातेपीते चले जाते हैं इस वजह से भी पोटैटो चिप्स की जैसे स्नैक्स आइटम की बिक्री बढ़ गयी है इसलिए इस तरह के products अधिकतर तौर पर रेलवे स्टेशन, बस स्टेशन, एयर पोर्ट्स इत्यादि में बिकते हुए ज्यादा देखे जा सकते हैं। 

लोकेशन 

Potato Chips Factory आप कहीं भी ऐसी जगह पर लगा सकते हैं जहाँ तक यातायात आवागमन की सुविधा हो तथा पॉवर विद्युत् कनेक्शन उपलब्ध हो। वर्कशॉप एवं गोडाउन के लिए पर्याप्त जगह हो, लेकिन जगह साफ़ सुथरे एरिया में होना चाहिए क्योंकि आपको एक ऐसे प्रोडक्ट्स की फैक्ट्री लगानी है जो खाया जाता है इसलिए साफ़ सफाई का विशेष ध्यान रखना होगा।  

कच्चा माल (Raw Material)

Potato Chips बनाने हेतु मुख्य रूप से प्रयुक्त होने वाला कच्चा माल आलू है। इसी से पोटैटो चिप्स बनाया जाता है इसके सिवाय चिप्स को टेस्टी बनाने हेतु इसमें विभिन्न तरह के मसाले मिक्स किये जाते हैं जो निम्नलिखित हैं-

  • आलू-  चिप्स बनाने में सबसे प्रमुख कच्चा माल आलू ही है यह market में आपको आसानी से हर सीजन में मिल जाता है। 
  • नमक-  चिप्स में स्वादानुसार नमक मिलाया जाता है। 
  • शुद्ध सरसों का तेल-  इसमें चिप्स को फ्राई किया जाता है।

इसके सिवाय चिप्स में निम्नलिखित मसाले चिप्स को टेस्टी एवं चटपटा बनाने के लिए मिलाये जाते हैं। 

  • हल्दी पाउडर
  • लाल मिर्च पाउडर
  • धनिया पाउडर
  • जीरा

इसे जरूर पढ़िए – कुरकुरे का व्यवसाय कैसे स्टार्ट करें?

आवश्यक मशीनरी (Machinery for chips business)

Potato chips business
chips making machine

आलू के चिप्स बनाने हेतु निम्नलिखित मशीनरी का इस्तेमाल किया जाता है-

  1. POTATO PEELING MACHINE- इस मशीन से  आलू के ऊपरी छिलके को हटाया जाता है  अर्थात यह मशीन आलू को छिलने का काम करती है।  
  2. POTATO SLICING MACHINE- यह मशीन आलू को छोटे छोटे टुकड़ों में काटने का काम करती है। 
  3. BATCH FRYER MACHINE- इस मशीन से आलू के छोटे-छोटे टुकड़ों को फ्राई किया जाता है। 
  4. DRYER MACHINE- इस मशीन से आलू के अन्दर की नमी को निकालने के लिए प्रयोग किया जाता है लेकिन अगर  आप चाहे तो इसे धूप में भी सुखा सकते हैं तब मशीन खरीदने की जरूरत नहीं पड़ेगी। 
  5. SPICES COATING MACHINEइस मशीन से भुने हुए आलू में विभिन्न प्रकार के मसाले मिलाये जाते हैं जिससे चिप्स स्वादिष्ट हो जाता है। 
  6. PACKAGING MACHINE- इस मशीन से बिलकुल रेडी चिप्स को पाउच में पैक किया जाता है। 

मशीन कहाँ से खरीदें ?

मशीन खरीदने के लिए आप अपने शहर के मैन्युफैक्चरर से कांटेक्ट कर सकते हैं अगर आपको नहीं पता है तो आप indiamart.com की वेबसाइट पर जाकर अपने लोकेशन को सेलेक्ट कर सकते हैं और अपने नजदीकी मैन्युफैक्चरर से मशीन खरीद सकते हैं।

पूँजी निवेश (Potato chips machine price)

Potato Chips Manufacturin को स्टार्ट करने हेतु आपके पास कम से कम 4,00000  से 5,00000 रुपये की आवश्यकता होगी जिसमे आपकी सभी मशीनें जैसे पोटैटो पीलिंग मशीन, पोटैटो स्लाइसर मशीन, स्पाइस कोटिंग मशीन, पैकेजिंग मशीन एवं शुरूआती कच्चा माल खरीदा जा सके। आप बिज़नस के शुरुआत में थोड़े माल से अपने फैक्ट्री की शुरुआत कर सकते हैं फिर जैसे-जैसे आपका प्रोडक्ट्स बिकता जाए आप उसी अनुसार अधिक कच्चा माल मंगवा सकते हैं अर्थात आप छोटी पूँजी से भी अपना पोटैटो चिप्स मेकिंग प्लांट स्टार्ट कर सकते हैं।  

लाइसेंस (License for chips business ideas)

चूंकि चिप्स एक खाद्य पदार्थ है इसलिए जीएसटी के साथ इसका FSSAI से फ़ूड लाइसेंस लेना अनिवार्य है इसके सिवाय आपको अपना ट्रेडमार्क ब्रांड रजिस्ट्रेशन करवाना पड़ेगा। 

चिप्स बनाने की विधि (Potato chips making process)

Potato Chips  बनाने की पूरी विधि निम्नलिखित है-

  • सबसे पहले आलू को अच्छे से धुला जाता है ताकि उसमे से धूल मिट्टी आदि निकल जाये।
  • अच्छे से धुले हुए आलू को अब Peeling Machine में डाला जाता है जहाँ से आलू का छिलका हटा दिया जाता है।
  • छिले हुए आलू को अब Slice Machine में डालते हैं ताकि आलू के छोटे-छोटे टुकड़े हो जाएँ। 
  • अब आलू के इन छोटे-छोटे टुकड़ों को पानी में कुछ समय तक भिगोकर रखा जाता है। 
  • कुछ समय बाद आलू के टुकड़ों को पानी से निकालकर सुखाया जाता है। 
  • जब आलू के टुकड़े अच्छी तरह से सूख जाते हैं तब इन्हें Batch Fryer Machine में शुद्ध सरसों के तेल में एक निश्चित तापमान पर 2 मिनट तक फ्राई किया जाता है जिससे इनका रंग गोल्डेन हो जाता है। 
  • अब इन भुने हुए टुकड़ों को Spices Coating Machine में मसाला मिलाने हेतु डाला जाता है। मसाला मिल जाने के बाद ही चिप्स स्वादिष्ट बनता है।   जितना अच्छा मसाला मिलाते हैं उतनी ही अच्छी क्वालिटी का चिप्स तैयार होता है। 
  • अच्छी तरह से मसाला मिल जाने के बाद ये चिप्स पैकिंग के लिए तैयार हो जाते हैं। 

पैकेजिंग (Packaging)

पोटैटो चिप्स (Potato chips business in India) में अच्छी तरह से मसाला मिल जाने के बाद इसे आकर्षक colorful पाउच में पैक कर दिया जाता है ताकि दिखने में सुन्दर एवं मनमोहक लगे।पैकेज पर ही पैकेज में रखे चिप्स का वजन, मैन्युफैक्चरिंग डेट, प्राइस आदि लेबल कर दिया जाता है। पैकेजिंग जितनी अच्छी एवं  आकर्षक होगी उतने ही ज्यादा ग्राहक आपके प्रोडक्ट्स को खरीदने के लिए लालायित होंगे इसलिए पैकिंग करते समय इस बात का जरूर ध्यान रखें।

Potato chips business
Potato chips business

ADVERTISING

किसी भी फैक्ट्री या प्लांट को लगाकर सिर्फ उत्पादन शुरू कर देने से ही आपकी कमाई स्टार्ट नहीं हो जाती है बल्कि उसके लिए जरुरी है आपके प्रोडक्ट्स की बिक्री होना। इसके लिए आपको अपने प्रोडक्ट्स का प्रचार प्रसार करना होगा उसकी खूबियों को लोगों को बताना होगा। आपको पहले अपने लोकल मार्केट्स के होलसेलर एवं रिटेलर से संपर्क करना होगा उनसे मिलकर अपने प्रोडक्ट्स का सैंपल के तौर पर कुछ पाउच देना होगा और फिर आगे का आर्डर लेना होगा। विभिन्न रेलवे स्टेशन, बस स्टेशन एवं हाईवे पर स्थित होटलों पर स्थित किराना की दुकानों से संपर्क करके अपने प्रोडक्ट्स की बिक्री बढ़ा सकते हैं।  

लाभ (Potato Chips Business Profit)

Potato Chips Business Plan in Hindi के उद्योग में प्रॉफिट मार्जिन बहुत ज्यादा है क्योंकि आलू के चिप्स बनाने में लागत ज्यादा नहीं आती है यदि एक किलोग्राम आलू की कीमत मोटे तौर पर देखा जाय तो 15 से 20  रुपये तक होती है। यह दर घटती बढ़ती रहती है लगभग 10 किलोग्राम आलू से 4 से 5 किलोग्राम  चिप्स बन जाता है, 10 KG आलू की कीमत लगभग 200 रुपये हो जाएगी इसके साथ इसमें और  चटपटे मसाले मिलाये जाते हैं इसकी कीमत और मशीनरी खर्च एवं लेबर चार्ज सब कुछ जोड़ कर अगर 450 से 500 रुपये हो जाता है और चिप्स की बिक्री 240 से 250 रुपये प्रति किलोग्राम तक होती है इस प्रकार से 10 kg आलू से तैयार 4 किलोग्राम चिप्स की मार्किट प्राइस 250 X 4 = 1000 रुपये हो जाती है। यदि Profit Margin in Potato Chips Businessमें देखा जाये तो आप होलसेल रेट पर इससे कुछ कम कीमत पर अपने प्रोडक्ट्स को बेंच सकते हैं तब भी आपको लगभग 800 से 900 रुपये मिलने वाले हैं चूंकि इसकी मांग बहुत ज्यादा है इसलिए इसकी प्राइस कभी घटती नहीं है इस प्रकार से देखा जाय तो इस बिज़नस में प्रॉफिट मार्जिन बहुत ज्यादा है।

निष्कर्ष-

मुझे आशा एवं पूर्ण विश्वास है कि आप ‘Potato Chips Business कैसे स्टार्ट करें’ पोस्ट को पढ़कर लाभान्वित हुए होंगे। यदि यह पोस्ट आपको अच्छा एवं लाभदायक लगा हो कमेन्ट कीजिये एवं अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर कीजिये ताकि वें भी लाभान्वित हो सकें आपके लाइक और कमेन्ट से हमारा हौसला बढ़ता है जिससे हमें और नए-नए पोस्ट लिखने की प्रेरणा मिलती है। धन्यवाद।

chips business video

 

   

About Ved Prakash Yadav


1 thought on “Potato Chips Business Idea in Hindi | Process, Profit Margin & Investment”

  1. बहुत ही बढ़िया जानकारी दी है आपने। ऐसे ही आर्टिकल लाते रहिए

Leave a Comment

Your email address will not be published.